बीते तीन वर्षों में राज्य में तैनात केंद्रीय अर्धसैनिक बलों के 18 जवानों ने की आत्महत्या

रांची। राज्य में तैनात केंद्रीय अर्धसैनिक बलों के जवानों की आत्महत्या करने के मामले लगातार सामने आ रहे हैं। बीते तीन वर्षों में राज्य के विभिन्न इलाकों में तैनात केंद्रीय अर्धसैनिक बल के कुल 18 जवानों ने खुद को गोली मारकर या फंदे से लटक कर जान दे दी है। जवानों की आत्महत्या के पीछे घरेलू समस्या, बीमारी, वित्तीय समस्या और मानसिक तनाव की बातें सामने आई हैं।
अब तक की प्रमुख घटनाएं- 27 दिसंबर को रांची के खलारी थाना क्षेत्र के एनके एरिया स्थित सीआईएसएफ कैंप में एक जवान बीएन वर्मा ने खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली। 26 दिसंबर को बोकारो जिले के रहावन कैंप में सीआरपीएफ 26 बटालियन के एक जवान ने सर्विस राइफल से गोली मारकर आत्महत्या कर ली। 27 नवंबर को गुमला के सिलम में 218 सीआरपीएफ बटालियन कैंप में तैनात सीआरपीएफ के हवलदार संजय कुमार ने एके 47 से खुद को गोली मारकर जान दे दी थी। 07 अक्टूबर को पलामू जिले में सीआरपीएफ के जवान प्रांजल नाथ ने खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली थी। 19 अगस्त को लोहरदगा जिले में सीआरपीएफ 158 बटालियन के जवान ने खुदकुशी कर ली है। घटना लोहरदगा जिले के सुदूरवर्ती पेशरार थाना क्षेत्र के केकरांग सीआरपीएफ कैंप में हुई थी। 10 जुलाई को पलामू के चियांकी 112 बटालियन में तैनात सीआरपीएफ के एक जवान ने गोली मारकर आत्महत्या कर ली थी। 06 जनवरी को पश्चिमी सिंहभूम (चाईबासा) के गोईलकेरा में सीआरपीएफ के जवान ने खुद को गोली मारकर आत्महत्या की थी। 08 अक्टूबर, 2022 को लातेहार में सीआरपीएफ के जवान ने खुद को गोली मार ली थी, जिसमें उसकी जान चली गई। 19 सितंबर, 2022 को धनबाद में सीआरपीएफ जवान ने छत से कूदकर जान दे दी थी।-27 अगस्त, 2022 को पश्चिमी सिंहभूम (चाईबासा) के चक्रधरपुर में सीआरपीएफ के जवान अजीत पाठक ने खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली थी। 26 मई, 2022 को गिरिडीह पंचायत चुनाव की ड्यूटी में बगोदर आये एसएसबी (सशस्त्र सीमा बल) के जवान ने गोली मारकर आत्महत्या कर ली थी। 08 फरवरी, 2022 को धनबाद के चासनाला निवासी सीआईएसएफ के जवान सारथी नंदन झा ने खुदकुशी की थी। 31 दिसंबर, 2021 को लोहरदगा के चैनपुर पिकेट में तैनात सीआरपीएफ के जवान दिलीप कुमार ने खुद को गोली मारकर जान दे दी थी। 27 जुलाई, 2021 को हजारीबाग जिले में मेरु में सीमा सुरक्षा बल के जवान कमलेश सिंह ने अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली थी। 9 जुलाई, 2021 को गिरिडीह के मधुबन में सीआरपीएफ के जवान रतन दास ने गोली मारकर आत्महत्या कर ली थी। 08 जून, 2021 को चतरा जिले के सिमरिया थाना क्षेत्र के बेलगडा कोरोना आइसोलेशन सेंटर में सीआरपीएफ 190वीं बटालियन के एक जवान ने पहले साथी को और फिर खुद को गोली मार ली थी। 31 मई, 2021 को हजारीबाग में बीएसएफ के एक जवान ने खुदकुशी की थी। 26 फरवरी, 2021 को गुमला में सीआरपीएफ जवान ने अपनी ही रायफल से खुद को गोली मारकर की आत्महत्या कर ली थी।

This post has already been read 1161 times!

Sharing this

Related posts