बिना डायलिसिस के किडनी एवं हार्ट फेल का सफल इलाज

Ranchi: कोडरमा निवासी एक 33 वर्षीय पुरुष, जिसकी संवेदना शून्य थी और पिछले 1 दिन से सांस की तकलीफ बढ़ने की शिकायत के साथ पारस एचईसी अस्पताल आया, क्योंकि बाहर के अस्पताल में उसे अविलंब डायलिसिस करने की सलाह दी गई थी। अस्पताल में जाँच करने पर उक्त व्यक्ति के अंडकोश एवं किडनी में गंभीर इन्फेक्शन पाया गया। पल्स -128/मिनट्,बीपी160/20 पाया गया ! मरीज़ को गंभीर मेटाबोलिक एसिडोसिस था। मरीज़ को खराब जीसीएस के कारण आपातकालीन स्थिति में तुरंत इंटुबैट किया गया। छाती का एक्स रे करने पर पल्मोनरी एडिमा पाया गया, जिसके कारण तत्काल हृदय रोग विशेषज्ञ की राय ली गई और मरीज़ को आईसीयू में स्थानांतरित कर दिया गया। 2D ईको स्क्रीनिंग से पता चला कि LVEF-35%/DCMP में तीव्र हृदय की विफलता के साथ संदिग्ध हार्ट अटैक की प्रबल संभावना थी जिसके फलस्वरूप डोबुटामाइन और लासिक्स इन्फ्यूजन पर शुरू किया गया । इलाज के दौरान जाँच में किडनी की समस्या भी पाई गई।
मरीज़ के परिजनों से जानकारी मिली कि 3 सप्ताह पहले अंडकोश की सूजन के साथ मरीज़ को बुखार भी आया था। मरीज़ के तीव्र हृदय विफलता को देखते हुए पारस एचईसी अस्पताल के चिक्त्सकों ने इलाज शुरू किया। इन्फेक्शन की पुष्टि होने के बाद मरीज़ को शुरुआत में एंटीबायोटिक्स दिया गया और अन्य सहायक उपायों के साथ अस्पताल में इलाज चलने लगा। जल्द ही मरीज़ के जीसीएस में सुधार पाया गया और रोगी की हालत में सुधार होने लगा। धीरे धीरे किडनी ठीक होने लगा और साथ ही इन्फेक्शन भी कम होने लगा। मरीज की हालत में सुधार होने पर उसे आईसीयू से बाहर शिफ्ट किया गया। मरीज़ के अंडकोश की सूजन भी कम हो गई। जिसके फलस्वरूप हृदय के पम्प करने की क्षमता में काफ़ी सुधार आया।

This post has already been read 1793 times!

Sharing this

Related posts