देवी सरस्वती की मूर्तियों को अंतिम रूप देने में जुटे शिल्पकार

रांची। सरस्वती पूजा 14 फरवरी को है। शहर में मूर्तिकार देवी सरस्वती के विभिन्न रूपों को अंतिम रूप देने में जोर-शोर से जुटे हुए हैं। कोलकाता से आए कारीगर और मूर्तिकारों ने कहा कि मूर्ति बनाने के लिए वे पिछले दो महीने से शहर में हैं और दिन-रात एक कर मूर्तियों को तैयार करने में लगे हैं।प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष भी मूर्तियों की मांग में बढ़ोतरी की उम्मीद थी लेकिन इस बार परिस्थिति विपरीत है। मांग में वृद्धि की बजाय कमी आयी है।
कचहरी रोड स्थित बिहार क्लब में मां सरस्वती की कुल 150 मनमोहक और दिव्य मूर्तियां बनकर तैयार हैं। चार मूर्तिकारों ने 60 दिनों से दिन-रात एक कर सभी मूर्तियां तैयार की है। कोलकाता के मूर्तिकार ने कहा कि तीन फीट से लेकर नौ फीट तक मां सरस्वती की कई आकर्षक मूर्तियां तैयार की गई है। अब तक 80 मूर्तियां बिक चुकी हैं। उम्मीद है बाकी मूर्तियां भी आने वाले दिनों में बिक जाएंगी।
भारत माता चौक के समीप मूर्ति बना रहे कोलकाता के आनंद बाजार से आए कलाकार मनोज पाल ने कहा कि बनाई गईं कुल 70 मूर्तियों में केवल 35 मूर्तियां ही बिकी हैं। मूर्तियों के मूल्यों की बात करें तो बाजार में ढाई हजार से लेकर 16 हजार तक की मूर्तियां उपलब्ध हैं।

This post has already been read 2401 times!

Sharing this

Related posts