झारखंड प्रदेश शौंडिक संघ के राष्ट्रीय सम्मेलन सह सम्मान समारोह संपन्न

अपना  अधिकार के लिए हमें होना होगा संगठित :  समीर महासेठ 

रांची: बिहार के उधोग मंत्री समीर कुमार महासेठ ने कहा कि वैश्य समाज को संगठित होना होगा। वैश्य समाज की 56 उप-जातियां हैं। सभी को एकजूट करने की जरुरत है। एकजूटता आयेगी तो हमारी राजनीतिक भागीदारी भी बढ़ेगी। समाज में बदलाव आयेगा और सरकार तक हमारी बातें सुनी जायेगी। वैश्य समाज मजबूत होगा तो हमारा राजनीतिक दायरा भी बढ़ेगा और हमारा अधिकार भी मिलेगा। उक्त बातें उन्होंने बतौर मुख्य अतिथि झारखंड प्रदेश शौंडिक संघ के एक दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन सह सम्मान समारोह में कही। मोरहाबादी के संगम गार्डेन हॉल में आयोजित अखिल भारतीय शौंडिक का राष्ट्रीय सम्मेलन में देश और विदेशों आये हजारों प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया । इस मौके पर राजनीतिक में आबादी के अनुसार भागीदारी और सुंडी को अनुसूचित जाति की सूची में शामिल करने की मांग की गयी । बिहार के उधोग मंत्री समीर महासेठ ने कहा कि हमारी भागीदारी राजनीतिक क्षेत्र के आलावा अन्य क्षेत्रों में भी होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि सरकार को हमारा समाज हरेक क्षेत्र में योगदान देते हैं। व्यापार के माध्यम से लोगों को रोजगार देते हैं। नौकरी करने वाला आठ घंटे घड़ी के टाइम से नौकरी करता है परन्तु व्यापार करने वाला 24 घंटे व्यापार करता है। इसे सरकार को समझना होगा। उन्होंने कहा कि पंचायत स्तर से लेकर ब्लॉक और जिला स्तर से लेकर स्टेट स्तर तक कार्यक्रम के माध्यम से व्यापारियों को एकजूट करना होगा। पश्चिम बंगाल की तर्ज पर झारखंड में भी वैश्य समाज को आरक्षण मिलना चाहिए। इसके लिए रांची के मोरहाबादी मैदान में एक बड़ा कार्यक्रम का आयोजन किया जायेगा जिसमें समाज के सभी लोगों को एकजूटता का परिचय देते हुए शामिल होना होगा। शौंडिक समाज आज बेहतर कार्य कर रहा है। हमारा संगठन देश ही नही पंचायत स्तर पर भी होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि वैश्य समाज के 56 उपजातियों को सुंडी समाज बढ़ाने का कार्य कर रहा है जो सराहनीय है। हमलोग एकजूट होंगे तो भारत सरकार से अपने हक की लड़ाई लड़ कर लेंगे। 

कार्यक्रम में अपने संबोधन में राज्यसभा सांसद धीरज प्रसाद साहू ने कहा कि अन्य जातियों की तरह अब सुंडी समाज भी जाग गया है । सरकार को हमें आबादी के अनुपात में राजनीति में भागीदारी सुनिश्चित करे । उन्होंने अपने समाज से अह्वान किया कि अपना हक और अधिकार लेने के लिए सभी एकजुटता से संघर्ष करने के लिए आगे आये । हमें अपना अधिकार जरूर मिलेगा । राज्यसभा सांसद आदित्य प्रसाद साहू ने कहा सुंडी समाज को एकजुट होना होगा तब ही हमारी बातों पर सरकार ध्यान देंगी । हमें सरकार से अपने अधिकारों की मांग के साथ अपने समाज की बेहतरी और मजबूती के लिए भी कार्य करना होगा । सम्मेलन में प्रस्ताव पारित कर झारखंड सरकार राज्य के सुंडी जाति को अनुसूचित जाति की सूची में शामिल करने , समाज में व्याप्त दहेज प्रथा को बंद करने , राजनीति में आबादी के अनुपात में भागीदारी देने और निर्धन मेधावी छात्रों को समाज के द्वारा उसे आगे पढ़ने में सहयोग करने की मांग की गयी । कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रदेश अध्यक्ष दिनेश प्रसाद साहू ने किया । कार्यक्रम के दौरान अपने अपने क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले समाज के लोगों को सम्मानित किया गया ।

[9/24, 9:03 PM] Birendra Sahu: कार्यक्रम संयोजक बीरेंद्र साहु ने कड़ी मेहनत से काम कर घूम घूम कर एक एक प्रतिनिधियों की सुधी ले रहे थे। बीरेंद्र साहु जी की पहचान चाणक्य के रूप में निखरी है तभी तो इस कार्यक्रम के मुख्य राचारिता ने काफ़ी दिमाग लगा दूर दराज देश विदेश के एक एक अतिथिगण को खुद जाकर सबकी खबर ले रहे थे।

[9/24, 9:03 PM] Birendra Sahu: पंच परगना सुंडी संघ के वोलेंटियर जिसमें अजीत साहु, उपेन साहु, मनोज साहु, राहुल साहु,सिद्धार्थ साहु, अनूप साहु, दिलिप साहु, ओम प्रकाश गुप्ता, सुजीत कुमार साहु, आदित्य साहु, रघुनंदन साहु, फनीलाल साहु, ललित प्रसाद साहू, अशोक साहु,दीनबंधु साहु, गौतम साहु, राम लाल साहु,सतान् साहु, अविनाश साहु, साकेत साहु, पुलकित साहु, सिल्ली बसरूली से अंकित साहु, बिनोद साहु, नरेन्द्र चन्द्र साहु, दिनेश साहु,हरेंद्र प्रसाद साहु, पश्चिम बंगाल सुंडी संघ से भोलानाथ साहु, सुमन साहु, राजीव साहु तुलीन, सरोज साहु, कृष्णा साहु , बाबुल साहु, राष्ट्रीय सुंडी समाज से सनत मंडल, रविन्द्र मंडल, अमीन मंडल,बिष्णु मंडल, रणबीर भारतीय, प्रभात कुमार, कृतीबास मंडल, लोहरदगा जिला अध्यक्ष नंदकिशोर साहु, गोवर्धन साहु, पंकज साहु, सिमडेगा जिला अध्यक्ष अरविंद कुमार, अनूप साहु महामंत्री, हितेंद्र कुमार,लातेहार जिला अध्यक्ष महेंद्र गुप्ता,हरिओम,बलूमाथ से शिव प्रसाद साहु, अंजित साहु, चतरा से राजन साहु, महेश साहु, अखिल भारतीय वैश्य महासम्मेलन के प्रदेश अध्यक्ष पलामू निवासी ज्ञान शंकर जी, बिहार,उड़ीसा,तेलंगाना, छतीसगड़, उत्तरप्रदेश, आसाम,दिल्ली, महाराष्ट्र, नेपाल देश, दुबई से भी प्रतिनिधियों ने भाग लिया।

This post has already been read 3553 times!

Sharing this

Related posts