झारखंड के एनजीओ युवा को लॉरेस सम्मान

मोनाको। लड़कियों के सशक्तिकरण से जुड़े झारखंड स्थित स्वयंसेवी संस्था युवा को रविवार को यहां ‘लॉरस स्पोर्ट्स फोर गुड’ पुरस्कार के लिए चुना गया। अमेरिका के फ्रैंक गास्टलर और रोज थामसन गास्टलर ने 2009 में इस संस्था की स्थापना की थी जो झारखंड के ग्रामीण क्षेत्रों में फुटबॉल कार्यक्रम का संचालन करती है और इससे 450 लड़कियां जुड़ी हुई हैं। लड़कियां एमेच्योर हैं और जो लंबे समय से संस्था से जुड़ी हैं उन्हें कोच बना दिया गया है। इन 450 लड़कियों में 4 लड़कियां हिमा, नीता, राधा और कोनिका युवा की तरफ से सोमवार को पुरस्कार ग्रहण करेंगी। इससे पहले भारत की ओर से साल 2014 में मैजिक बस ने लॉरस पुरस्कार जीता था। रविवार को फुटबॉल की दुनिया की महान हस्ती और विख्यात कोच अर्सेने वेंगर ने इस प्रतिष्ठित पुरस्कार की घोषणा से पहले इन युवा भारतीय लड़कियों के साथ फुटबॉल खेला। वेंगर ने युवा से जुड़ी इन लड़कियों की तारीफ करते हुए कहा, ‘वे टेक्निकली बहुत शानदार हैं और मिलकर खेलना चाहती हैं। हम अक्सर ऐसा कहते हैं कि फुटबॉल 11 व्यक्तिगत स्वार्थी खिलाड़ियों का खेल है। लेकिन वे एक टीम की तरह खेलीं और वे बेहद प्रेरित हैं।’ इस मौके पर यहां 5 बार की ओलिंपिक चैंपियन स्वीमर मिसी फ्रैंकलिन में मौजूद थीं। वे इन भारतीय लड़कियों की कहानी जानकर बेहद प्रेरित हुईं। ये सभी लड़कियां ऐसे क्षेत्र से आतीं हैं जहां उनके लिए परिस्थितियां चुनौतीपूर्ण हैं और यहां बाल विवाह जैसी कुप्रथा प्रचलित हैं। 23 वर्षीय फ्रैंकलिन, जिन्होंने सभी को हैरान करते हुए खेलों से हाल ही में संन्यास ले लिया उन्होंने बताया, ‘इन लड़कियों से मिलना और इनके जीवन की कहानियां जानकर बहुत प्रेरणा मिली। मैं बहुत खुश हूं कि मैंने यहां आकर इन लड़कियों के साथ कुछ समय बिताया।’

This post has already been read 7132 times!

Sharing this

Related posts