गाजा में जमीनी हमले किये तेज : इजरायल !!

हम भी पूरी ताकत से देंगे जवाब : हमास

गाजा सिटी। गाजा पट्टी ) में अब इज़रायली सेना  और हमास  के लड़के जमीन पर आमने-सामने की लड़ाई लड़ रहे हैं. इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्‍याहू का कहना है कि वह हमास को जड़ से खत्‍म कर ही शांत बैठेंगे. वहीं, हमास ने शनिवार को कहा कि इजरायली सेना द्वारा फिलिस्तीनी इलाके पर अपने हवाई और जमीनी हमलों को तेज करने के बाद गाजा में उसके लड़ाके “पूरी ताकत” से इजरायली हमलों का सामना करने के लिए तैयार हैं. गाजा पर शासन करने वाले फिलीस्तीनी उग्रवादी समूह ने पहले कहा था कि इजरायल द्वारा गाजा में तेज हमलों की रिपोर्ट के बाद उसके लड़ाके इजरायल की सीमा के पास के इलाकों में इजरायली सैनिकों के साथ संघर्ष कर रहे हैं. इजराइली सैन्य प्रवक्ता रियर एडमिरल डेनियल हगारी ने शुक्रवार शाम एक टेलीविजन समाचार ब्रीफिंग में कहा, “पिछले कुछ दिनों में किए गए हमलों के अलावा, जमीनी सेना आज रात अपने अभियान का विस्तार कर रही है. गाजा पर आक्रमण की शुरुआत हो सकती है.” उन्होंने कहा कि इजराइल की वायु सेना हमास द्वारा खोदी गई सुरंगों और अन्य बुनियादी ढांचे पर लगातार हमले कर रही है. हमास ने शनिवार सुबह एक बयान में कहा, “अल-कसम ब्रिगेड और सभी फिलिस्तीनी प्रतिरोध बल पूरी ताकत से (इज़राइल की) आक्रामकता का सामना करने और उसकी घुसपैठ को विफल करने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं.” इससे पहले हमास की सशस्त्र शाखा ने शुक्रवार देर रात कहा कि उसके लड़ाके गाजा के उत्तरपूर्वी शहर बेत हनौन और अल-बुरीज के मध्य क्षेत्र में इजरायली सैनिकों के साथ युद्ध कर रहे हैं. इजरायली प्रधानमंत्री का जिक्र करते हुए उन्‍होंने कहा, “नेतन्याहू और उनकी पराजित सेना कोई सैन्य जीत हासिल नहीं कर पाएगी. हमास द्वारा 7 अक्‍टूबर को किये गए हमले के बाद इजरायल लगातार गाजा पट्टी पर एयर स्‍ट्राइक कर रहा है. कुछ दिनों पहले उत्‍तरी गाजा की सीमा पर इजरायल ने अपने टैंक और सैनिक भी तैनात कर दिये थे. इसके बाद पीएम नेतन्‍याहू ने कहा था कि वह हमास को जड़ से खत्‍म करके ही दम लेंगे. अब इज़रायल हवाई हमलों के साथ जमीनी हमले भी गाजा में कर रहा है. इज़रायल में हुए हमास के हमलों में लगभग 1400 लोग मारे गए थे, जिसमें काफी महिलाएं और बच्‍चे भी शामिल थे. 200 से ज्‍यादा लोगों को बंधक बनाकर भी हमास के लड़ाके ले गए थे.

This post has already been read 1921 times!

Sharing this

Related posts