गाजा में घुसी इजरायल की सेना, जमीनी हमले में आतंकियों के ठिकाने ध्‍वस्‍त

गाजा: इजरायल डिफेंस फोर्सेज (आईडीएफ) जल्‍द ही गाजा पर जमीनी हमले करने वाली है। आईडीएफफ की तरफ से जो वीडियो शेयर किया गया है, उससे तो कम से कम यही लगता है। इजरायली सैनिकों और टैंकों ने गुरुवार को बृहस्पतिवार को उत्तरी गाजा में थोड़ी देर के लिए जमीनी हमला किया। सेना ने बताया कि दो सप्ताह से ज्‍यादा समय के विनाशकारी हवाई हमलों के बाद बड़े स्‍तर पर संभावित जमीनी हमले के लिए युद्धक्षेत्र तैयार करने के मकसद से यह कार्रवाई की गई थी। इसमें कई आतंकी ठिकानों को निशाना बनाया गया है।इजरायली सेना ने कहा कि उसने केवल आतंकवादी ठिकानों पर हमला किया है। साथ ही उसने हमास पर घनी आबादी वाले गाजा में नागरिकों के बीच रहकर अभियान चलाने का आरोप लगाया। युद्ध शुरू होने के बाद से ही फलस्तीनी आतंकवादियों ने इजरायल में रॉकेट हमले किए हैं। सेना ने बताया कि रातभर किए हमलों के दौरान सैनिकों ने हमास लड़ाकों, आतंकवादी ठिकानों और टैंक रोधी मिसाइल लॉन्चिंग स्थलों पर हमले किए। अभी किसी भी पक्ष ने हताहतों की जानकारी नहीं दी है। इस बीच, गुरुवार को ही सुबह दक्षिणी शहर खान यूनिस में एक आवासीय इमारत पर हवाई हमला किया गया। स्थानीय लोगों ने बताया कि इस इमारत में 25 विस्थापितों समेत 75 लोग रहते थे। गाजा के स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि युद्ध में 6,500 से ज्‍यादा फिलिस्‍तीनियों की मौत हो गयी है। इसमें पिछले सप्ताह एक अस्पताल में हुए धमाके में मारे गए लोग भी शामिल हैं। इजरायल की सरकार के अनुसार, लड़ाई में उसके 1400 से ज्‍यादा लोग मारे गए हैं। इनमें से ज्यादातर नागरिक हमास के शुरुआती हमले के दौरान मारे गए थे। हमास ने गाजा में करीब 222 लोगों को बंधक बना रखा है। यह हमला ऐसे वक्त में किया गया है जब संयुक्त राष्ट्र ने आगाह किया है कि गाजा पट्टी में ईंधन खत्म होने की कगार पर है। इससे उसे क्षेत्र में राहत प्रयास को रोकने के लिए मजबूर होना पड़ेगा। इजराइल-फलस्तीन के दशकों से चल आ रहे संघर्ष में गाजा में अभी हो रहा खूनखराबा अभूतपूर्व है। अगर इजरायल हमास के खात्मे के मकसद से जमीनी आक्रमण शुरू करता है तो गाजा में मृतकों की संख्या बढ़ सकती है। हमास शासित गाजा में स्वास्थ्य मंत्रालय ने बुधवार को कहा कि पिछले 24 घंटे में 750 से अधिक लोगों की मौत हो गयी जो एक दिन पहले मारे गए 704 लोगों की संख्या से अधिक है।

This post has already been read 1985 times!

Sharing this

Related posts