आजम खान को झटका ! योगी सरकार ने जौहर यूनिवर्सिटी ट्रस्ट को दी गई छीनी

लखनऊ: जेल में बंद सपा नेता आजम खान को योगी सरकार ने बड़ा झटका दिया है. कैबिनेट बैठक में सरकार ने आजम खान की जौहर यूनिवर्सिटी को दी गई जमीन वापस ले ली है. सपा सरकार के दौरान आजम ने रामपुर के मुर्तजा हायर सेकेंडरी स्कूल भवन समेत पूरा परिसर मौलाना मुहम्मद जौहर ट्रस्ट को 99 साल की लीज पर दे दिया था।
आजम खान ने माध्यमिक शिक्षा विभाग से भी समझौता किया था, समझौते की शर्तों के उल्लंघन का आरोप लगाते हुए सरकार ने पट्टा रद्द कर दिया है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में मंगलवार सुबह 11 बजे लोकभवन में कैबिनेट बैठक हुई। बैठक में शिक्षा विभाग के भूमि प्रस्ताव समेत विभिन्न विभागों के करीब एक दर्जन प्रस्तावों पर विचार किया गया. इस प्रस्ताव पर विचार करते हुए सरकार ने एक झटके में जमीन वापस लेने का फैसला किया है.
इस फैसले के मुताबिक आजम खान के दफ्तर के साथ-साथ रामपुर पब्लिक स्कूल की जमीन भी खाली हो जाएगी. आपको बता दें कि बीजेपी विधायक आकाश सक्सेना ने यह मुद्दा उठाया था. इसमें विधायक ने आरोप लगाया कि आजम खान ने पट्टे की शर्तों का उल्लंघन किया है. आजम खान ने तोपखाना रोड पर सरकारी जमीन पर पार्टी कार्यालय दार-उल-अवाम और रामपुर पब्लिक स्कूल बनाया, जो पट्टे पर भी थी। अब लीज रद्द होने के बाद सरकार जल्द ही इस पर कब्जा कर लेगी.
आरोप है कि आजम खान ने सपा सरकार में अपने प्रभाव का इस्तेमाल करते हुए राजकीय मुर्तजा उच्चतर माध्यमिक विद्यालय की इमारत और जमीन शिक्षा विभाग से पट्टे पर ले ली. उसी समय, दार-उल-अवाम और रामपुर पब्लिक स्कूल ने तोपखाना रोड पर अपना कार्यालय स्थापित किया था। दरअसल, जिस भवन में दार-उल-अवाम स्थित है, वहां जिला विद्यालय निरीक्षक का कार्यालय था, जबकि रामपुर पब्लिक स्कूल भवन में जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी का कार्यालय था.
आजम ने 2012 में इस इमारत को मुहम्मद अली जौहर यूनिवर्सिटी के नाम पर लीज पर लिया था। इस लीज डीड के प्वाइंट नंबर 7 में साफ लिखा है कि आवंटित जमीन पर यूनिवर्सिटी बनाई जाएगी और एक साल के अंदर इसका काम शुरू कर दिया जाएगा. इसमें शर्त लगाई गई कि भूमि का उपयोग किसी अन्य उद्देश्य के लिए नहीं किया जाएगा। इसी आधार पर विधायक ने डीएम से शिकायत की थी.
डीएम ने जांच कर रिपोर्ट शासन को भेज दी। अब इस रिपोर्ट के आधार पर कैबिनेट ने लीज रद्द कर दी है. साथ ही सरकारी संपत्ति को हुए नुकसान की जांच के लिए डीएम रवीन्द्र कुमार मंदार के नेतृत्व में एक जांच कमेटी का भी गठन किया गया है.

This post has already been read 2695 times!

Sharing this

Related posts