अच्छे काम’ दिखाने के लिए ‘सेल्फी पॉइंट’ बनाने का आदेश, पीएम की फोटो अनिवार्य

कोलकाता: रक्षा मंत्रालय ने निर्देश दिया है कि देश के प्रमुख शहरों में उसके सभी विभागों और संगठनों द्वारा ‘रक्षा क्षेत्र में किए गए अच्छे कामों को दिखाने’ के लिए जियो-टैग किए गए ‘सेल्फी पॉइंट’ बनाए जाएं. कहा गया है कि ये ‘सेल्फी पॉइंट’ 3-डी झांकी की तरह होंगे. इन सभी के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर को अनिवार्य बताया गया है.सरकार का लक्ष्य ऐसे 822 सेल्फी पॉइंट बनाने का है.डिफेंस एकाउंट्स के कंट्रोलर जनरल द्वारा जारी नोट में उल्लेख किया गया है कि हर सेल्फी पॉइंट इन व्यापक ‘थीम’ से जुड़ेगा, जो उनके दायरे में आते हैं. उदाहरण के लिए, रक्षा सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम और तीन सेवाएं ‘आत्मनिर्भर भारत’ थीम के तहत सेल्फी पॉइंट बनाएंगी. तीनों सेनाओं के लिए ‘सशक्तिकरण’ भी एक थीम होगा.रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) और रक्षा उत्पादन विभाग का थीम ‘अनुसंधान और विकास और नवाचार’ होगा. रक्षा विभाग के संयुक्त सचिव (समन्वय) द्वारा हस्ताक्षरित और वेबसाइट पर उपलब्ध दिशानिर्देश में कहा गया है कि प्रत्येक विभाग को 11 अक्टूबर तक संबंधित अधिकारियों और मीडिया और कम्युनिकेशन के एडीजी को ‘कार्रवाई रिपोर्ट’ देनी होगी. नोटिस में कहा गया है कि मीडिया और कम्युनिकेशन के एडीजी को शुक्रवार (13 अक्टूबर) को ‘सेल्फी-पॉइंट बनाने के बारे में प्रगति’ पर रक्षा मंत्री के सामने एक प्रेजेंटेशन देना था. डिफेंस एकाउंट्स के कंट्रोलर जनरल ने नौ शहरों- नई दिल्ली, नासिक, इलाहाबाद, कोल्लम, पुणे, कोलकाता, बेंगलुरु, गुवाहाटी और मेरठ में ‘सेल्फी पॉइंट’ बनाने को मंजूरी दे दी है. रक्षा मंत्रालय द्वारा जारी एक नोट में कहा गया है कि इन्हें बनाने का निर्णय 14 सितंबर को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में हुई एक बैठक में लिया गया था. इसमें इस बात पर जोर दिया गया है कि इन्हें ‘प्रमुख स्थानों पर बनाया जाना चाहिए, जहां अधिकतम लोग आते हों और इनमें जनता का ध्यान खींचने की क्षमता हो. मंत्रालय ने युद्ध स्मारक, रक्षा संग्रहालय, ट्रेन, मेट्रो और बस अड्डे, हवाई अड्डे, मॉल, स्कूल, कॉलेज, बाजार, पर्यटक स्थल और यहां तक कि त्योहार और समारोहों के उदाहरण भी जोड़े हैं. मंत्रालय ने कहा है कि हर पॉइंट पर नरेंद्र मोदी की तस्वीर हो और ‘लोगों को ऐसा एहसास दिलाए कि वे भी इस पहल का हिस्सा हैं. यह भी कहा गया है कि संबंधित विभाग को एक अलग ऐप, सोशल मीडिया हैंडल (ध्यान खींचने वाली आईडी के साथ), ईमेल और वॉट्सऐप एकाउंट के जरिये एक फीडबैक तंत्र भी स्थापित करना होगा, जिसका उपयोग लोग अपनी सेल्फी, विभाग को भेजने के लिए कर सकते हैं. नोट में इस बारे में विस्तार से बताया गया है कि हर विंग के तहत प्रत्येक संगठन द्वारा कितने सेल्फी प्वाइंट बनाने की उम्मीद है. मिसाल के लिए, भारतीय सेना 100 पॉइंट का जिम्मा मिला है. राष्ट्रीय कैडेट कोर (एनसीसी) को 30. डिफेंस एकाउंट्स के कंट्रोलर जनरल के 9 अक्टूबर के नोट में बताए गए थीम पेंशन लाभ, भत्ते जारी करना, महिला सशक्तिकरण और स्वच्छ भारत हैं. विभागों दिए गए कुछ उदाहरणों ‘वैक्सीन और योग’ से लेकर ‘उज्ज्वला योजना’, ‘जल जीवन मिशन’ तक सभी प्रकार की सरकारी योजनाओं और नीतियां नजर आती हैं.

This post has already been read 1409 times!

Sharing this

Related posts