सुरंग हादसा : सेना ने संभाला मोर्चा, प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव  ने किया निरीक्षण

उत्तरकाशी। उत्तरकाशी के सिलक्यारा निर्माणाधीन सुरंग पिछले 16 दिनों से 41 जिंदगियों को बचाने की जंग जारी है। सोमवार से सेना ने मोर्चा संभाल लिया है। सुरंग में वर्टिकल ड्रिलिंग 31 मीटर पूरी हो चुकी है। टनल में मैन्युअल खुदाई भी शुरू हो गयी है।प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के प्रधान सचिव डॉ. प्रमोद कुमार मिश्रा ने आज उत्तरकाशी की सिलक्यारा निर्माणाधीन टनल में फंसे श्रमिकों को बाहर निकालने के लिए चलाये जा रहे रेस्क्यू ऑपरेशन का स्थलीय निरीक्षण किया और सुरंग के अंदर फंसे श्रमिकों से बातचीत की। इस दौरान उनके साथ उत्तराखंड के मुख्य सचिव एसएस संधू भी थे। प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव पीके मिश्रा सिलक्यारा टनल रेस्क्यू ऑपरेशन का निरीक्षण कर सुरंग के अंदर फंसे श्रमिकों के लिए भेजी जा रही भोजन सामग्री के बारे में भी जानकारी ली। साथ ही सिलक्यारा सुरंग के अंदर फंसे श्रमिकों के परिजनों से भी वार्ता की और उन्हें ढांढस बंधाया।उन्होंने एनएचडीसीएल एवं नोडल अधिकारी नीरज खैरवाल से भी रेस्क्यू आपरेशन की जानकारी ली।
आज सुबह से सिलक्यारा निर्माणाधीन टनल में राहत और बचाव अभियान को सेना के हवाले कर दिया गया। सेना की इंजीनियरिंग कोर की मद्रास सैपर्स की टीम अब राहत और बचाव कार्य का जिम्मा देखेगी। लगातार आ रही बाधाओं के बाद आखिरकार 41 मजदूरों को सकुशल बाहर निकालने की जिम्मेदारी अब सेना को दी गई है। राहत और बचाव कार्य में 41 घंटे तक ब्रेक लगा रहा। अब एक बार फिर से बचाव और राहत कार्य में तेजी आ गई है। अमेरिकी ऑगर ड्रिलिंग मशीन के खराब होने के बाद इस ऑपरेशन को सेना के हवाले किया गया है। अब सुरंग के ऊपर से वर्टिकल ड्रिल शुरू कर मजदूर तक पहुंचाने की कोशिश की जा रही है, इसमें अभी और तीन चार दिन लग सकते हैं। दिल्ली के स्पेशलिस्ट की भी मदद ली जा रही है। रेस्क्यू ऑपरेशन में अब पूरी तरीके से तीनों ओर मोर्चा पर कार्य से चल रहा है। वर्टिकल ड्रिलिंग ने भी अब रफ्तार पकड़ ली है। अब तक 31 मीटर की खुदाई कर ली गई है। वर्टिकल ड्रिलिंग कुल 86 मीटर होनी है।

This post has already been read 2945 times!

Sharing this

Related posts