सिक्किम में बाढ़ से 56 लोगों की मौत, 3 हजार पर्यटक फंसे

गंगटोक: सिक्किम में तीस्ता नदी में अचानक आई बाढ़ ने बड़े पैमाने पर तबाही मचाई है और चार दिनों के बाद भी कीचड़ और मलबे में शव मिल रहे हैं। न्यूज पोर्टल ‘आज तक’ की रिपोर्ट के मुताबिक, इस बाढ़ आपदा के कारण बड़ी संख्या में लोगों की जान चली गई है और अब तक 56 शव बरामद किए जा चुके हैं. पश्चिम बंगाल में तीस्ता नदी बेसिन से 30 से अधिक शव बरामद किए गए हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, सेना के 22 जवान लापता थे, जिनमें से 7 के शव बरामद कर लिए गए हैं. राज्य में चार दिनों से 3,000 पर्यटक फंसे हुए हैं, लेकिन खराब मौसम के कारण हवाई बचाव अभियान में बाधा आ रही है।
पश्चिम बंगाल सरकार के अनुसार, तीन जिलों सिलीगुड़ी, जलपाईगुड़ी और कूच बिहार में तीस्ता नदी बेसिन से शव बरामद किए गए हैं। सिक्किम सरकार के मुताबिक, 16 शव बरामद किए गए हैं, जिनमें मंगन से चार, गंगटोक से छह और पाकयोंग जिले से सात भारतीय सैनिकों के शव शामिल हैं। सिक्किम सरकार के ताजा आंकड़ों के मुताबिक, 142 लोग अभी भी लापता हैं और 25,000 से ज्यादा लोग इस आपदा से प्रभावित हुए हैं.
गौरतलब है कि बुधवार सुबह बादल फटने से सिक्किम में तीस्ता नदी में अचानक बाढ़ आ गई, जिससे 25 हजार से ज्यादा लोग प्रभावित हुए. बाढ़ से 1200 से ज्यादा घर क्षतिग्रस्त हो गए हैं. कुल 13 पुल बह गए हैं. अब तक अलग-अलग इलाकों से 2413 लोगों को बचाया जा चुका है. इसके अलावा राज्य भर में 22 राहत शिविरों में 6875 लोगों ने शरण ली है. इनमें से अधिकतर इलाके देश के बाकी हिस्सों से कटे हुए हैं.
इस बीच, वरिष्ठ अधिकारियों ने कहा कि उत्तरी सिक्किम में फंसे लगभग 3,000 पर्यटकों को अभी तक निकाला नहीं गया है। वायुसेना की ओर से कई बार एमआई-17 हेलीकॉप्टर भेजने की कोशिश की गई, लेकिन खराब मौसम के कारण वे सफल नहीं हो सके. दरअसल, निचले इलाकों में बादल छाए रहने और लाचेन और लाचिंग की घाटियों में कम दृश्यता के कारण इस समस्या का सामना करना पड़ता है। इसलिए बागडोगरा और चितन से हेलीकॉप्टर उड़ान नहीं भर पा रहे हैं.
मुख्यमंत्री प्रेम सिंह तमांग ने मृतकों के परिजनों के लिए 4 लाख रुपये और शिविरों में रहने वाले लोगों के लिए 2000 रुपये की तत्काल राहत की घोषणा की है। सीएम ने कहा, हजारों करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है. नुकसान के बारे में हम अभी सटीक जानकारी नहीं दे सकते. एक कमेटी गठित कर विश्लेषण पूरा कर सूचित किया जाएगा। हमारी पहली प्राथमिकता फंसे हुए लोगों को बचाना और उन्हें तत्काल राहत पहुंचाना है।

This post has already been read 4545 times!

Sharing this

Related posts