लोकतंत्र की हत्या के विरोध में 22 दिसंबर 2023 को राष्ट्रव्यापी विरोध प्रदर्शन।

रांची भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी कार्यालय में इंडिया के बैनर तले घटक दलों की बैठक झारखंड मुक्ति मोर्चा के जिला अध्यक्ष मुस्ताक अंसारी की अध्यक्षता में हुई। जिसमें मुख्य रूप से पूर्व केंद्रीय मंत्री श्री सुबोध कांत सहाय, कांग्रेस पार्टी के महासचिव सुरेंद्र सिंह, प्रवक्ता राकेश सिन्हा ,भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के प्रदेश सचिव महेंद्र पाठक, कांग्रेस जिला अध्यक्ष राकेश किरण महतो, भाकपा माले के शुभेंदु सेन, राष्ट्रीय जनता दल के जिला अध्यक्ष धर्मेंद्र महतो, सीपीएम के समीर दास, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के जिला सचिव अजय कुमार सिंह, आम आदमी पार्टी के संजय कुमार रजक सहित इंडिया गठबंधन के नेतृत्व के सभी साथी उपस्थित थे । नेताओं ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी लगातार लोकतंत्र की गला घोट रही है। मोदी सरकार के हाथों लोकतंत्र संविधान अब तो देश के सांसद भी सुरक्षित नहीं है । भारतीय जनता पार्टी के संसद के अनुसार से संसद के अंदर तांडव मचाने वाले को बचाने के लिए 151 सांसदों को निष्कासित कर दिया गया। यह लोकतंत्र हत्या है । देश में आपातकाल की स्थिति है। सदन में जबरदस्ती गैर कानूनी सभी फैसले लिए जा रहे हैं। गैर संवैधानिक तरीके से देश के विपक्षी नेताओं पर कार्रवाई की जा रही है। आने वाले दिन महागठबंधन इंडिया मजबूती तरीके से लोकतंत्र देश की हिफाजत के लिए संविधान को बचाने के लिए सड़कों पर उतरेगी। 22 दिसंबर 2023 को रांची जिला स्कूल के मैदान से आक्रोश मार्च जो राजभवन तक जाएगा और राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सोपा जाएगा। बैठक में पूर्व केंद्रीय मंत्री सुबोध कांत सहाय, कांग्रेस के महासचिव सुरेंद्र सिंह, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के प्रदेश सचिव महेंद्र पाठक, अजय कुमार सिंह , राकेश किरण महतो, झारखंड मुक्ति मोर्चा के जिला अध्यक्ष मुस्ताक अंसारी, जिला सचिव हेमलाल महतो , माले भुवनेश्वर केवट, राजेश यादव, आम आदमी पार्टी के अविनाश नारायण ,संतोष कुमार रजक, जेडीयू के सागर कुमार , टीएमसी केसंजय कुमार पांडे, तेतर महतो विनोद लहरी, सुरेंद्र सिंह, जोगेंद्र सिंह बेनी ,समीर दास, नागेंद्र चौधरी ,उदयभान सिंह, धर्मेंद्र महतो, रामनंदन प्रसाद सिंह आदि कई नेतृत्व के लोग उपस्थित थे।

This post has already been read 1448 times!

Sharing this

Related posts