आईसीसी को लिखे बीसीसीआई के पत्र पर शशांक मनोहर का जवाब, ‘खिलाड़ियों की सुरक्षा हमारी प्राथमिकता’

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने हाल ही में आईसीसी को विश्व कप टूर्नामेंट में खिलाड़ियों और सपोर्ट स्टाफ की सुरक्षा को लेकर पत्र लिखा। आईसीसी सीईओ डेविड रिचर्डसन, चीफ शशांक मनोहर और कॉलिन ग्रेव्स को संबोधित किए गए इस पत्र में आतंकवाद को पनाह देने वाले देशों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की मांग की गई है। आईसीसी चीफ मनोहर ने बीसीसीआई के पत्र पर प्रतिक्रिया देते हुए साफ कहा है खिलाड़ियों की सुरक्षा हमेशा से ही उनकी प्राथमिकता रही है। टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में मनोहर ने कहा, “मुझे बीसीसीआई का पत्र मिला। सुरक्षा आईसीसी की प्राथमिकता थी और हमेशी रहेगी।” मनोहर ने बताया कि आईसीसी 2 मार्च को दुबई में होने वाली बैठक में बीसीसीआई से सीधी बातचीत करेगी। उन्होंने आगे कहा, “जब आईसीसी बोर्ड के सदस्य 2 मार्च को दुबई में मिलेंगे, तब हम बीसीसीआई को विश्व कप के लिए बनाई गई अपनी सुरक्षा योजना दिखाएंगे। वो विश्व कप की तैयारियों को लेकर अपने आपको संतुष्ट कर सकते हैं। हर बोर्ड सदस्य को इसका अधिकार है। और जहां तक दूसरे मुद्दों की बात है, मैं बीसीसीआई का खत और उनकी परेशानियां आईसीसी बोर्ड के सामने पेश करूंगा।”बीसीसीआई की मुख्य समस्या विश्व कप में भारत और पाकिस्तान के बीच होने वाला मैच है। 14 फरवरी को पुलवामा में हुई आतंकी हमने में 44 भारतीय जवानों के शहीद होने के बाद पाकिस्तान के खिलाफ क्रिकेट खेलने को लेकर देश में रोष है। हालांकि क्रिकेट दिग्गजों के राय इस मामले पर बंटी हुई है। पूर्व भारतीय कप्तान सुनील गावस्कर का कहना है कि विश्व कप में पाकिस्तान के खिलाफ ना खेलना टीम इंडिया के लिए नुकसानदायक होगा। वहीं वीवीएस लक्ष्मण, हरभजन सिंह का कहना है कि सेना से बढ़कर देश के लिए और कुछ नहीं है। भारतीय क्रिकेट दिग्गज सचिन तेंदुलकर ने इस मामले पर गावस्कर का साथ दिया है। तेंदुलकर चाहते हैं कि भारत पाकिस्तान के खिलाफ खेले और उन्हें एक बार फिर हराए। हालांकि तेंदुलकर ने ये भी कहा कि बोर्ड और सरकार जो भी फैसला लेंगे, वो उसे मान्य करेंगे।

This post has already been read 14006 times!

Sharing this

Related posts