गरीबों, बेरोजगारों को योगदा सत्संग ने दिया 15 हजार किलो खाद्यान्न

रांची : कोरोना लॉकडाउन के दौरान योगदा सत्संग ने राजधानी रांची और आसपास के गांवों के गरीबों, बेरोजगारों को 15 हजार किलो खाद्यान्न उपलब्ध कराकर सहायता पहुंचाई। शनिवार को योगदा आश्रम द्वारा जारी विज्ञप्ति में बताया गया है कि विश्वव्यापी संकट की इस घड़ी में लॉकडाउन-2के इन अंतिम दिनों में लेकरोड, शिवाजी नगर, हटिया, नामकोम, रेलवे कॉलोनी, लेनदापीड़ी, बरंडी जैसी जगहों पर 15 सौ किलो चावल, 600 किलो दाल, 225 लीटर सरसों तेल, 900 किलो आलू, 400 किलो प्याज, हल्दी-नमक के 400 पैकेट, 1,750 साबुन और 450 मास्क 500 जरूरतमंद परिवारों के बीच वितरित किये गए। लोगों को कोरोना संबन्धी जानकारी और हिदायतें देने के लिए हर सहायता शिविर में डॉक्टर की मौजूदगी रही।


आश्रम के एक वरिष्ठ संन्यासी ने कहा कि योगदा सत्संग के संस्थापक परमहंस योगानंद कहा करते थे कि मनुष्य को गरीबों-जरूरतमंदों के हृदय में आशा और उत्साह का संचार वैसे ही करना चाहिए, जैसे सूर्य की किरणें हर किसी का भरण-पोषण करती हैं। ईश्वर की नज़रों में वही व्यक्ति सफल होता है, जो दूसरों को प्रसन्नता प्रदान कर प्रसन्न होता है। कोरोना संकट काल में इसी भावना से प्रेरित होकर योगदा सत्संग अलग-अलग तारीखों में अलग-अलग जगहों पर सहायता शिविर का आयोजन कर रहा है। इस क्रम में ज़रूरतमंद परिवारों को चिह्नित कर राँची में अब तक 15 हजार किलो सूखे खाद्यान्न, चार हजार किलो प्याज, सात हजार किलो आलू, 1,750 लीटर सरसों तेल, 1,200 किलो नमक, 150 किलो हल्दी पाउडर, 33 हजार साबुन और 9,400 मास्क उपलब्ध कराए जा चुके हैं। आश्रम यह सेवा कार्य जारी रखेगा।

इसमें सहभागी बनने के इच्छुक सज्जन https://yssofindia.org/donate.php पते पर संपर्क कर सकते हैं।

This post has already been read 3169 times!

Sharing this

Related posts