यादों के झरोखे से : आज ही के दिन सचिन तेंदुलकर ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से लिया था संन्यास

नई दिल्ली : भारतीय क्रिकेट टीम के महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर के लिए आज का दिन काफी यादगार है। सचिन ने आज ही के दिन सात साल पहले 16 नवंबर, 2013 को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लिया था। 
सचिन का करियर दो दशकों तक रहा। उन्होंने मुंबई में अपने घरेलू मैदान पर वेस्टइंडीज के खिलाफ 200वें टेस्ट मैच के बाद क्रिकेट के सभी रूपों से संन्यास ले लिया। अपने आखिरी टेस्ट में तेंदुलकर ने 74 रन बनाए। उन्हें स्पिनर नरसिंह देवनरेन ने पवेलियन भेजा था, देवनरेन की गेंद पर डैरेन सैमी ने सचिन का कैच पकड़ा था।
हालाँकि, जब सैमी ने यह कैच लिया, तो वह थोड़ा उदास थे और उन्होंने इसका जश्न भी नहीं मनाया क्योंकि यह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में तेंदुलकर की अंतिम पारी थी। पिछले साल, तेंदुलकर आईसीसी हॉल ऑफ फेम में शामिल होने वाले छठे भारतीय बन गए थे। 46 वर्षीय सचिन ने 1989 में 16 साल की उम्र में भारत के लिए पदार्पण किया था। उन्होंने क्रिकेट के सभी प्रारूपों में 34,357 रन फॉर्मेट में बनाए, जो श्रीलंका के पूर्व क्रिकेटर कुमार संगकारा की तुलना में 6,000 रन अधिक है।
अब तक के सबसे महान बल्लेबाजों में से एक के रूप में, तेंदुलकर के पास अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सबसे अधिक रन बनाने का रिकॉर्ड है। उन्होंने एकदिवसीय मैचों में 18,426 रन और टेस्ट मैचों में 15,921 रन बनाए हैं। 37 साल की उम्र में, तेंदुलकर ने अपना अंतिम विश्व कप खेला। 
महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में भारतीय क्रिकेट टीम ने 2011 के संस्करण के फाइनल में श्रीलंका को छह विकेट से हराया था। इस जीत के साथ ही तेंदुलकर पहली बार विश्व कप विजेता टीम के सदस्य बने। सचिन ने 2012 में 50 ओवर के प्रारूप से संन्यास ले लिया था। 

This post has already been read 761 times!

Sharing this

Related posts