सीएम संयमित भाषा का इस्तेमाल करें, बाबूलाल का नाम जपे बगैर भाजपाइयों को नहीं आती नींद : झाविमो

रांची, 15 मई (हि.स.)। झारखंड विकास मोर्चा (झाविमो) के प्रवक्ता योगेंद्र प्रताप ने कहा कि मुख्यमंत्री रघुवर दास लोकसभा चुनाव में भाजपा की संभावित दुर्गति को देखकर आपा खो बैठे हैं। चुनाव के बाद इनकी मुख्यमंत्री की कुर्सी जानी तय है। इसी बौखलाहट में वे अनाप-शनाप भाषा का इस्तेमाल कर रहे हैं।

सिंह ने बुधवार को कहा कि बाबूलाल मरांडी राज्य के सर्वाधिक लोकप्रिय और सम्मानित नेता हैं। बाबूलाल पर अमर्यादित टिप्पणी करना सीएम के राजनीतिक संस्कार का परिचायक है। रघुवर की बाबूलाल के खिलाफ कोढ़ जैसी अलोकतांत्रिक भाषा में की गई टिप्पणी यह दर्शाती है कि भाजपा का वर्तमान राजनीतिक संस्कार कैसा हो चला है। उन्होंने कहा कि आज की नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली भाजपा अटल-आडवाणी की भाजपा से कितनी बदल चुकी है। जिस दल के प्रधानमंत्री की ही भाषा अमर्यादित हो, उसके मुख्यमंत्री से मर्यादित भाषा की उम्मीद भी बेमानी है। जो व्यक्ति लोकतंत्र के मंदिर के अंदर जनप्रतिनिधियों को गाली दे सकता है, उससे भला लोगों को कैसी भाषा की अपेक्षा होगी। 

सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री की कुर्सी पा लेने भर से कोई बाबूलाल मरांडी नहीं बन जाता है। दरअसल बाबूलाल का नाम जपे बगैर उन्हें नींद नहीं आती है। बाबूलाल को कम से कम भाजपा नेताओं से प्रमाणपत्र लेने की जरूरत नहीं है। हिन्दुस्थान समाचार/कृष्ण/राजीव/सुभाष  Submitted By: Edited By: Rajeev Mishra Published By: Subhash Nigam at May 15 2019 6:15PM

This post has already been read 817 times!

Sharing this

Related posts