केंद्रीय मंत्री ने ममता सरकार पर लगाए कोरोना संक्रमण के आंकड़े छिपाने के आरोप

कोलकाता। केंद्रीय महिला और विकास राज्य मंत्री देवश्री रायचौधरी ने ममता बनर्जी की सरकार पर कोरोना वायरस संक्रमण के आंकड़े छिपाने के आरोप लगाए हैं।सोमवार को उन्होंने कहा कि कोरोना के संदिग्ध लक्षणों के साथ अस्पतालों में पहुंचने वाले लोगों की पुख्ता जांच नहीं हो रही है। उन्हें आईसीयू में भर्ती कर दिया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि सरकार आंकड़े छिपाने की भरपूर कोशिश कर रही है। केंद्रीय मंत्री ने दावा किया कि ममता सरकार के पास केंद्र सरकार ने पर्याप्त संख्या में जांच किट भेजे हैं लेकिन अभी तक उत्तर बंगाल के अस्पतालों में इन्हें मुहैया नहीं कराया गया है।जिलाधिकारी के तौर पर तैनात आईएएस अधिकारियों पर आरोप लगाते हुए देवश्री ने कहा कि जब इन अधिकारियों से इस बारे में पूछा जा रहा है तो वे दो टूक शब्दों में कह रहे हैं कि यह राज्य के स्वास्थ्य विभाग का काम है।

इस संबंध में दूसरे किसी को दिमाग नहीं लगाना चाहिए। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री प्रत्येक जिले में कोरोना अस्पताल बनाने की घोषणा कर रही हैं, लेकिन इसकी केवल घोषणा हो रही है। इसे लेकर कोई काम नहीं हो रहा है। अस्पताल भी नहीं है और किट भी नहीं है। मुख्यमंत्री खुद स्वास्थ्य मंत्री है। उन्हें ध्यान देना चाहिए।बंगाल में रहने वाले प्रवासी समुदाय के लोगों को विशेष तौर पर मदद करने का आह्वान करते हुए देवश्री ने कहा कि पश्चिम बंगाल में दूसरे राज्यों से लोग आ रहे हैं।

इनमें से बड़ी संख्या में लोग पैदल आ रहे हैं, लेकिन इनकी कोई जांच नहीं हो रही है। केवल 14 दिनों के क्वारेंटाइन से फायदा नहीं होने वाला है। जो लोग संक्रमित हैं और अस्पताल में भर्ती हो रहे हैं, यदि उनकी जांच नहीं होगी, तो संक्रमण और भी फैलेगा। उन्होंने सवाल किया कि अस्पताल के आइसीयू में कितने लोग भर्ती हैं और उनकी जांच हुई है या नहीं सरकार यह उजागर करें।उन्होंने कहा कि उत्तर बंगाल में भी कोरोना का खतरा है। ये लोग दिखाना चाहते हैं कि बंगाल में कुछ नहीं हुआ है उन्होंने कहा कि वह कल रायगंज जा रही हैं। इस मामले को तहकीकात करेंगी।

This post has already been read 989 times!

Sharing this

Related posts