राजेश खन्ना को याद कर भावुक हुई बेटी ट्विंकल खन्ना सोशल मीडिया पर साझा की पिता की तस्वीर

राजेश खन्ना को याद कर भावुक हुई बेटी ट्विंकल खन्ना, सोशल मीडिया पर साझा की पिता की तस्वीर दिवंगत अभिनेता राजेश खन्ना की आज आठवीं पुण्यतिथि है। बॉलीवुड के पहले सुपरस्टार कहे जाने वाले राजेश खन्ना ने आज ही के दिन यानी 18 जुलाई , 2012 को 70 साल की उम्र में इस दुनिया को अलविदा कह दिया था।  राजेश खन्ना को फिल्म जगत में सभी प्यार से ‘काका’ कह कर सम्बोधित करते थे। राजेश खन्ना की आठवीं पुण्यतिथि पर उनकी अभिनेत्री बेटी ट्विंकल खन्ना ने उन्हें याद करते हुए सोशल मीडिया पर उनकी एक ब्लैक एंड वाइट तस्वीर  साझा की हैं। इस तस्वीर में वे स्माइल कर रहे हैं।उनके साथ डिंपल कपाड़िया हैं, जो कुछ बोलती नजर आ रही हैं और एक्टर असरानी भी हैं, जो हंस रहे हैं।

सोशल मीडिया पे यह तस्वीर वायरल हो रही है। वहीं सोशल मीडिया पर उनके तमाम चाहने वाले उन्हें श्रन्धांजलि भी दे रहे हैं। 29 जनवरी , 1942 को जन्में राजेश खन्ना भारतीय सिनेमा के पहले सुपरस्टार थे। उन्होंने अपने फिल्मी करियर की शुरुआत साल 1966 में आई फिल्म ‘आखिरी खत’ से की थी। इसके बाद उन्होंने कई फिल्मों में काम किया और बॉलीवुड को कई सुपरहिट फिल्में दी। राजेश खन्ना की कुछ प्रमुख फिल्मों में आराधना , इत्तेफाक , सच्चा झूठा , सफर , कटी पतंग , आनंद , दुश्मन , अमर प्रेम , नमक हराम , आप की कसम सौतन , आ अब लौट चले , क्या दिल ने कहा , रियासत आदि शामिल हैं । राजेश खन्ना फिल्मों के साथ -साथ राजनीति में भी सक्रिय थे। राजेश खन्ना ने साल 1973 में अभिनेत्री डिंपल कपड़ियां से शादी की थी।लेकिन साल 1982 में दोनों अलग हो गए।  राजेश और ट्विंकल की दो बेटियां ट्विंकल खन्ना और रिंकी खन्ना है।साल 2013 में राजेश खन्ना के निधन के बाद उन्हें भारतीय सिनेमा में उनके अभूतपूर्व योगदान के लिए भारत सरकार की तरफ से पद्मभूषण पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।  राजेश खन्ना भले ही इस दुनिया में नहीं है लेकिन अपनी शानदार अभिनय की बदौलत वे अपने चाहनेवालों के दिलों में सदैव जीवित रहेंगे। भारतीय सिनेमा में उनके दिए गए योगदान अतुलनीय है। हिंदी सिनेमा में राजेश खन्ना का नाम स्वर्णिम अक्षरों में लिखा जा चुका है।उन्होंने हिंदी सिनेमा को बुलंदियों का आसमान बख्शा ।भारतीय सिनेमा उनके दिए गए योगदानों को कभी नहीं भूल पायेगा।

This post has already been read 2424 times!

Sharing this

Related posts