बुरे दिनों से बचने के लिए आजमाएं इन लाभकारी उपायों को

यदि आप पर ग्रह नक्षत्रों की बुरी दशा चल रही है या आप कई महीनों से आप समस्याओं से घिरे हुए हैं, एक के बाद एक संकट आते रहते हैं तो यहां बताएं गए उपाय को अजमाएं। ये उपाय करने में किसी भी प्रकार की कोई बुराई नहीं है।

1. हनुमान चालीसा पढ़ना- सबसे पहले हनुमान चालीसा नियम से पढ़ना शुरू कर दें। पवित्र भावना और शांतिपूर्वक हनुमान चालीसा पढ़ने से हनुमान जी की कृपा प्राप्त होती है जो हमें हर तरह की जानी अनजानी अनहोनी से बचाती है।

2. हनुमान जी को चढ़ाए चोला- 5 बार हनुमान जी को चोला चढाए तो तुरंत ही संकटों से मुक्ति मिल जाती है। प्रति मंगलवार या शनिवार को बड़ के पत्ते पर आटे का दिया जलाकर उसे हनुमान जी के मंदिर पर रख आए। ऐसा कम से कम 11 मंगलवार या शनिवार को करें।

3. जानवरों को भोजन- गाय, कुत्ते, चींटी और पक्षियों को भोजन खिलाएं। वृक्ष, पक्षी, गाय, कुत्ता, कौवा, चींटी आदि प्राणियों के अन्न जल की व्यवस्था करने से इनकी हर तरह से दुआ मिलती है। इनको खिलाने से बहुत बड़ा पुण्य प्राप्त होता है।

4. नारियल का उतारा- पानीदार एक नारियल लें और उसे अपने ऊपर से 21 बार वारे। वारने के बाद उसे बहते हुए पानी में बहा दें या देवस्थान पर जाकर अग्नि में जला दें। ये उपाय मंगलवार या शनिवार को करना है। परिवार के जिस सदस्य पर संकट हो उसके ऊपर से वारे।

5. शमशान में सिक्के डाल आए- यदि किसी की अर्थी में जाना हो तो लौटते वक्त शमशान में कुछ सिक्के फेंकते हुए आ जाएं। पीछे पलटकर न देखें। इस उपाय से अचानक आई बाधा तुरंत ही समाप्त हो जाएगी और देवीय सहयोग मिलने लगेगा।

6. मछलियों को खिलाएं- कागजों पर छोटे अक्षर से राम-राम लिखें। अधिक से अधिक संख्या में ये राम नाम लिखे फिर नाम को अलग-अलग काट लें। अब आटे की छोटी-छोटी गोलियां बनाकर एक-एक कागज पर लिखे राम पर लपेट लें और नदी या तालाब पर जाकर मछलियों और कछुओं को ये गोली खिलाएं। प्रतिदिन खिलाएं और चींटियों को भुने हुए आटे में बूरा मिलाकर बनाई पंजीरी खिलाएं।

7. कुछ अन्य उपाय-

प्रतिदिन कौवे या पक्षियों को दाना डालने से पितृ तृप्त होते हैं।

प्रतिदिन चींटियों को दाना डालने से कर्ज और संकट से मुक्ति मिलती है।

प्रतिदिन कुत्ते को रोटी या बिस्कुट खिलाने से आकस्मिक संकट दूर रहते हैं।

प्रतिदिन गाय को रोटी खिलाने से आर्थिक संकट दूर होता है।

8. छाया दान करें- शनिवार को एक कांसे की कटोरी में सरसों का तेल और सिक्का डालकर उसमें अपनी परछाई देखें और तेल मांगने वाले को दे दें या किसी शनि मंदिर में शनिवार के दिन कटोरी सहित तेल रखकर आ जाएं। कम से कम ये उपाय 5 शनिवार तक करें। शनिवार को अमावस्या को पीपल के पेड़ पर सरसों के तेल का दीया जलाएं इससे पितृ दोष दूर होता है और शनिदेव खुश होते हैं।

-रीना बंसल, वास्तु विशेषज्ञ, न्यूमरोलॉजिट

This post has already been read 34655 times!

Sharing this

Related posts