बिहार में 16 से 31 जुलाई तक संपूर्ण लॉकडाउन, कोरोना के बढ़ते मामले पर सरकार ने उठाए कठोर कदम

राज्य सरकार ने जारी की नई गाइडलाइन, इमरजेंसी और अनिवार्य सेवाओं को छोड़कर सभी सेवाएं बंद रहेंगी

अनलॉक वन के एक माह में कोरोना के 6,181 मरीज मिले थे, जबकि पिछले 14 दिनों में ही 8,865 मिल चुके हैं

पटना : बिहार में कोरोना के संक्रमण ने तेजी दिखानी शुरू कर दी है। मंगलवार को सर्वाधिक 1,432  कोरोना पॉजिटिव मरीज सामने आए हैं। इसके चलते राज्य सरकार ने 16 जुलाई से लेकर 31 जुलाई तक  संपूर्ण लॉकडाउन का ऐलान कर दिया। अगले  15 दिन आपातकालीन और अनिवार्य सेवाओं को छोड़कर सभी सेवाएं बंद रहेंगी। मंगलवार को मुख्य सचिव दीपक कुमार की अध्यक्षता में हुई क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप (सीएमजी) की बैठक में इस पर मुहर लगाई गई। साथ ही गृह विभाग ने नई गाइडलाइन भी जारी कर दी है। 

बिहार सरकार की अधिसूचना के अनुसार, पूर्ण लॉकडाउन की अवधि के दौरान पूरे प्रदेश में इमरजेंसी और जरूरी सेवाओं को छोड़कर सभी सेवाएं बंद रहेंगी। धार्मिक स्थल और शॉपिंग मॉल बंद रहेंगे। दूध, फल, सब्जी और राशन जैसे जरूरी सामान की दुकानों को छोड़कर अन्य सभी दुकानें बंद रहेंगी। कोरोना के बढ़ते संक्रमण को रोकने के लिए पटना, भागलपुर, पूर्णिया, बक्सर, नवादा, कैमूर, मोतिहारी, मुंगेर, खगड़िया, पूर्वी चंपारण (मोतिहारी) और किशनगंज में 9 और 10 जुलाई से ही लॉकडाउन लगा हुआ है।

ये सेवाएं पूरी तरह रहेंगी बंद

 केंद्र सरकार के अधीन सभी दफ्तर लॉकडाउन के दौरान पूरी तरह बंद रहेंगे। रक्षा, पुलिस, पेट्रोल पंप, पोस्ट ऑफिस के कार्यालयों को इस लॉकडाउन से छूट दी गई है। बिहार सरकार के अधीन सभी सरकारी कार्यालय भी लॉकडाउन के दौरान बंद रहेंगे। सिर्फ बिजली, पानी, स्वास्थ्य, सिंचाई, खाद्य वितरण, कृषि एवं पशुपालन विभाग को छूट दी गई है। सभी व्यावसायिक और निजी संस्थान बंद रहेंगे। धार्मिक स्थल पूरी तरह से बंद रहेंगे। शॉपिंग माल बंद रहेंगे।

इनको दी गई छूट

राज्य में सभी अस्पताल और स्वास्थ्य सेवाओं से जुड़े लोगों और कार्यों को पूरी तरह लॉकडाउन से छूट दी गई है। फल, सब्जी, अनाज, दूध, मछली आदि की दुकानें खुली रहेंगी। हालांकि प्रशासन इनकी होम डिलिवरी की हर संभव व्यवस्था करने का प्रयास कर रहा है। सभी बैंक और एटीएम खुले रहेंगे। होटल, रेस्त्रां या ढाबे खुले रहेंगे, लेकिन वहां खाने की व्यवस्था नहीं होगी। सिर्फ पैकिंग सेवा देनी होगी। इसके अलावा रेल, हवाई सफर को मंजूरी दी गई है। हालांकि ऑटो, टैक्सी पूरे राज्य में संचालित होंगे। इसके साथ जरूरी सेवाओं के लिए निजी गाड़ियों का संचालन भी होगा। बाकी सभी ट्रांसपोर्ट सर्विस बंद रहेगी।

पटना हाईकोर्ट में भी होगा वर्चुअल तरीके से काम

पटना हाइकोर्ट प्रशासन ने राज्य की सभी जिला अदालतों को कम-से-कम एक सप्ताह तक वर्चुअल तरीके से ही कोर्ट का कामकाज करने को कहा है। एक दिन पहले सोमवार को ही मुख्य न्यायाधीश जस्टिस संजय करोल की अध्यक्षता में हुई बैठक में यह निर्णय लिया गया है।

राज्य में कोरोना का संक्रमण अनलॉक वन और टू में तेजी से फैला

बिहार में कोरोना का संक्रमण अनलॉक वन और अनलॉक टू में तेजी से फैला है। जुलाई के 14 दिन में ही पूरे जून से अधिक रोगी मिले हैं। अनलॉक टू के दौरान (1 जुलाई से 14 जुलाई तक) 8,865 संक्रमित मिले। अनलॉक वन के एक माह में कोरोना के 6,181 मरीज मिले थे।

This post has already been read 1778 times!

Sharing this

Related posts