पत्थलगड़ी मामले में केस वापसी का फैसला जल्दबाजी में लिया गया : सरयू राय

जमशेदपुर : जमशेदपुर (पूर्वी) के निर्दलीय विधायक सरयू राय ने आज यहां कहा कि खूंटी के पत्थलगड़ी मामले में मुख्यमंत्री हेमत सोरेन द्वारा केस वापसी का फैसला जल्दबाजी में लिया गया। इस प्रकार के अपराधिक या गैरकानूनी मामलों पर सोच विचार कर गुण दोष के आधार पर केस वापस लेना चाहिए। सरयू राय जमशेदपुर स्थित अपने आवास में पत्रकारों बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सरकार के कह देने से केस वापस नहीं हो जाता है। सरकार की घोषणा के साथ ही मामला कोर्ट में जाएगा । सरकार के पीपी तो कोर्ट मे जाकर कह देंगे कि हम केस वापस ले रहे हैं। इसके बावजूद सरकार की घोषणा के बाद भी इस मामले में जो भी अंतिम फैसला होगा, वह कोर्ट को ही करना है।

उन्होने कहा कि आरोपितों के केस वापसी की घोषणा के पूर्व मुख्यमंत्री हेंमत सोरेन को पूरे मामले की जांच करा लेनी चाहिए। इस मामले में जो भी दोषी है, उस पर कानूनी कार्रवाई करना चाहिए। जो दोषी नही है, उन लोगों के खिलाफ दर्ज केस हटा लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस प्रकार की समस्या को बलपूर्वक दबाया नहीं जा सकता है। बलपूर्वक दबाने से चिंगारी तो रहेगी ही और इस प्रकार के कांड होते रहेंगे। उन्होंने कहा कि हमें इसके लिए समाधान खोजने की जरूरत है।आखिर लोगों को हमारे संविधान में भरोसा क्यों नहीं है। उनकी मनोवृत्ति को हमें समझना होगा, तभी समस्या का समाधान हो सकता है। उनकी समस्या के समाधान के लिए अभी तक किसी ने भी पहल नहीं की है।

This post has already been read 961 times!

Sharing this

Related posts