मनरेगा के तहत चल रहे कार्यों का निरीक्षण कर केंद्रीय दलों ने किया संतोष व्यक्त.

झारखंड : सामाजिक अंकेक्षण की बारीकियों को सीखने और उसे अपने राज्य में लागु करने के लिए जम्मू और कश्मीर से एक दल आजकल झारखण्ड दौरे पर है .इस दल का नेतृत्व वहां के सोशल ऑडिट यूनिट की निदेशक शाफिया नक्शबंदी कर रही हैं और उनके साथ राज्य स्रोत व्यक्ति ज़मीर अहमद वानी और जिला स्रोत व्यक्ति बंशीलाल शर्मा ,बुबी रानी .हिलाल अहमद यत्तु और शौकत अहमद रिषी शामिल हैं .अपने सात दिनों के प्रवास के क्रम में यह दल झारखण्ड में सामाजिक अंकेक्षण की प्रक्रिया ,नवाचार और सामुदायिक भागीदारी के विभिन्न आयामों का अध्ययन करेगा .
दिनांक 23 फ़रवरी को इस दल का स्वागत सोशल ऑडिट यूनिट ,झारखण्ड के राज्य समन्वयक गुरजीत सिंह ने अपने राज्य कार्यालय में किया और झारखण्ड की प्रक्रियाओं की जानकारी दी .सोशल ऑडिट यूनिट ,झारखण्ड के राज्य स्तरीय विशेसज्ञों ने विषय वार इस दल को झारखण्ड के नवाचारों से अवगत कराया I 24 फ़रवरी को यह दल रामगढ जिले के पतरातू प्रखंड में बिरसा हरित ग्राम योजना के सामाजिक अंकेक्षण प्रक्रिया के अंतर्गत प्रखंड स्तरीय सुनवाई देखने पहुंचे .25 फ़रवरी से यह दल रांची जिला के नगडी  प्रखंड के दो पंचायतों में झारखण्ड के सोशल ऑडिट टीम के साथ रह कर पूरी प्रक्रिया समझने का प्रयास कर रही है i दल के कुछ सदस्यों ने 25 फ़रवरी को  हजारिबाग़ जिले में जिला स्तरीय कृत कार्यवाई प्रतिवेदन समीक्षा समिति की बैठक में भाग लिया और उपायुक्त से मुलाक़ात कर जिला प्रशासन की सामाजिक अंकेक्षण की प्रक्रिया में भूमिका और भागीदारी को समझने का प्रयास किया .
26 फ़रवरी को इस दल ने सचिव ,ग्रामीण विकास विभाग ,झारखण्ड सरकार से भेंट कर सामजिक अंकेक्षण प्रक्रिया में प्रशासकीय और वित्तीय सहयोग और स्वतंत्रता की बारीकियों को समझने का प्रयास किया ,सचिव श्रीमती आराधना पटनायक ने इस दल को बताया कि यह ध्यान रखना जरुरी है कि सामाजिक अंकेक्षण की  प्रक्रिया सहभागी ,निष्पक्ष और प्रभावी हो और इससे ग्राम सभा को निर्णय लेने और अनुशंषा करने में आसानी हो .उन्होंने जम्मू और कश्मीर में इस प्रक्रिया को स्थापित करने में झारखण्ड टीम के हर संभव सहयोग का भरोसा भी  दिलाया .
ज्ञात हो कि सामाजिक अंकेक्षण के क्षेत्र में तीन साल में किये गए प्रयोगों और विभिन्न योजनाओं में इसके फैलाव और प्रभाव के कारण झारखण्ड आज अग्रणी राज्यों की कतार में खड़ा है और असम ,छत्तीसगढ़ ,बिहार ,हिमाचल प्रदेश और उत्तर प्रदेश से टीमों ने यहाँ का भ्रमण कर सीखने की कोशिश की है I झारखण्ड के सामाजिक अंकेक्षण दल के स्रोत व्यक्तियों ने भी उत्तराखंड ,हरियाणा ,बिहार और जम्मू कश्मीर जाकर प्रशिशन देने का काम किया है ..

This post has already been read 823 times!

Sharing this

Related posts