Sahebganj : शहीद कुंदन ओझा का पार्थिक शरीर पहुंचा उनके पैतृक गांव अंतिम दर्शन के लिए लोगों की उमड़ी भीड़

साहिबगंज। भारत और चीन के बीच हुए झड़प में  लद्दाख के गलवान घाटी में शहीद हुए साहिबगंज के वीर कुंदन कुमार ओझा का पार्थिव शरीर शुक्रवार को उनके पैतृक गांव डिहरी पहुंचा। शहीद का पार्थिव शरीर हवाई मार्ग से गुरुवार की शाम पटना पहुंचा एवं वाहन से सदर प्रखंड के हाजीपुर पश्चिम पंचायत के डिहारी गाँव लाया गया जहां जिला प्रशासन द्वारा शहीद कुंदन की अंतिम यात्रा के लिए तैयारी की गई है। शहीद के पार्थिव शरीर को बिहार व झारखंड के चेकनाका पर एसडीओ पंकज कुमार साव व एसडीपीओ राजा कुमार मित्रा ने रिसीव किया,तथा कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच पैतृक गांव डिहारी पहुंचाया गया।यहां रामगढ़ व दानापुर कैंट से आये सेना के जवान ने शहीद को सलामी दी।

वहीं शहीद कुंदन ओझा के पार्थिव शरीर डेहरी गांव पहुंचने के साथ ही उनके परिजनों अपने पुत्र के शहीद के पार्थिव शरीर के आने के साथ ही रो रो कर बुरा हाल हो रहा था तथा शहीद की अंतिम दर्शन के लिए लोगों की काफी भीड़ उमड़  गई ।वहीं उसकी पत्नी अपने 20 दिन के बच्चे को गोद में लिए हुए अपने पति को बार-बार निहार रही थी। उपायुक्त वरुण रंजन,पुलिस अधीक्षक अनुरंजन किस्पोट्टा,भाजपा सांसद सुनील सोरेन, पूर्व मंत्री राज पालीवाल,पूर्व मंत्री डॉ लुईस मरांडी,झामुमो के केंद्रीय सचिव पंकज मिश्रा तथा जिले के आला अधिकारियों ने शहीद को श्रद्धांजलि दी। श्रद्धांजलि के पश्चात शहीद कुंदन को कैंट के जवानों द्वारा सलामी दिया गया। इसके बाद अंतिम दर्शन के लिए शहीद के पार्थिव शरीर को उनके पैतृक निवास रखा गया है ।जहां लोग उनका अंतिम दर्शन कर सकेंगे। इसके बाद अंतिम यात्रा जुलूस निकाली जायेगी तथा स्थानीय मुनीलाल श्मशान घाट पर शहीद की अंत्येष्टि होगी।

This post has already been read 2135 times!

Sharing this

Related posts