छोटे-छोटे दो बच्चों को लेकर मायके चली गई थी, आठ साल से वह मायके में ही रह रही है

Bokaro : बोकारो पूरा परिवार रात में खाना खाकर सोया था। आधी रात को पिता शौच करने उठे तो बेटा फंदे से झूलता मिला। यह घटना जिले के गोमिया थाना क्षेत्र अंतर्गत स्वांग पुराना माइनर्स क्वार्टर की है।मृतक जितेंद कुमार रविदास (31) के पिता ने बताया कि‍ उनका बेटा दस पंद्रह वर्षों से मानसिक रोग से ग्रस्ता था। उसका उपचार रांची स्थित मानसिक अस्पोताल से चल रहा था। इधर कुछ दिन से को पुनः उसकी तबियत ज्यादा बिगड़ गई थी, लिहाजा उपचार के लिए बुधवार को रांची ले जाने की तैयारी थी। हालांकि मंगलवार की रात को ही उसने फांसी लगा ली।

और पढ़ें : कीमती ब्लू स्टोन जब्त,जिसकी कीमत करीब तीन लाख रुपये

वे सपरिवार रात को खाना खाने के बाद सो गए। मध्य रात को जब शौच के लिए उठा, तब जितेंद को साड़ी का फंदा लगाकर पंखे से लटका देखा। घटना की जानकारी तुरंत आस पास के लोगों को दी। इसके साथ ही स्थानीय थाना प्रभारी आशीष खाखा को भी दी।
घटना की सूचना मिलने के बाद गोमिया थाना एसआई रतन कुमार, भीम राम और प्रवीण होरो सहित अन्य पुलिस कर्मी घटना स्थल पहुंचे। घटना की जानकारी ली। पूछताछ के बाद शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए अनुमंडलीय अस्पताल तेनुघाट भेजा।

इसे भी देखें : ऑनलाइन क्लासेज के लिए फ्री में मिलेगा स्मार्ट फोन, बना ‘मोबाइल बैंक’

मृतक जितेंद की मानसिक स्थिति खराब रहने के कारण उसकी पत्नी तंग हो चुकी थी। इसलिए वह अपने छोटे-छोटे दो बच्चों को लेकर मायके में चली गई थी। करीब साथ आठ साल से वह मायके में ही रह रही है। एक बड़ी बेटी दादा-दादी के साथ यहीं पर रहती है। पुलिस मृतक की पत्नी से संपर्क करने की कोशिश में लगी हुई है।

This post has already been read 1858 times!

Related posts