सिविल कोर्ट में लागू हुआ रोस्टर प्रणाली, वीडीयो कांफ्रेंसिंग के जरिए होगी अर्जेंट मामलों की सुनवाई

धनबाद। धनबाद प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश बसंत कुमार गोस्वामी के निर्देश पर आज से न्यायालय में रोस्टर प्रणाली लागू कर दी गई है। अब न्यायालय की कार्य अवधि 11 से 5:00 की जगह 11:00 से 3:00 बजे तक की कर दी गई है।
 नई व्यवस्था के तहत कोर्ट के एक तिहाई कर्मचारी और न्यायिक पदाधिकारी रोस्टर व्यवस्था के तहत ड्यूटी पर रहेगें । अब केवल वीडीयो कांफ्रेंसिंग के जरिए हीं अर्जेंट मामलों की सुनवाई होगी ।

वकील न्यायालय में जज के सामने खड़ा होकर बहस नहीं करेंगे। उसके लिए कोर्ट नंबर एक की व्यवस्था की गई है। जहां वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए वकील बहस करेंगे। इस बाबत जानकारी देते हुए प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश बसंत कुमार गोस्वामी ने बताया कि फैमिली कोर्ट में 6 दिन की रोस्टर व्यवस्था की गई है। वहीं पूरे जिले में केवल दो न्यायिक पदाधिकारी ही काम करेंगे। हालांकि कोई भी न्यायिक पदाधिकारी और कर्मचारी हेड क्वार्टर से बाहर नहीं जा सकेंगे।

वहीं  लगातार दिन भर में 3 बार कोर्ट परिसर में सेनिटाइजेशन की व्यवस्था की गई है। न्यायाधीश ने अपने कोर कमेटी के अन्य न्यायाधीशोंं के साथ न्यायालय परिसर, बार एसोसिएशन, धनबाद जेल, एसडीओ न्यायालय परिसर का मुआयना किया। इस दौरान सड़क पर चल रहे लोगों से घर से बाहर निकलने का कारण पूछा और उनसे घर में रहने की हिदायत दी। जिला जज ने आम लोगों से अपील की है कि वह न्यायालय ना आए उनके किसी मामले में कोई प्रतिकूल आदेश पारित नहीं होगा। 

This post has already been read 321 times!

Sharing this

Related posts