रेमडेसिवर व ऑक्सीजन की उपलब्धता की प्रतिदिन करें समीक्षा – मुख्यमंत्री योगी

विद्यालयों में 15 मई तक पठन-पाठन स्थगित
2,000 से अधिक सक्रिय केस वाले सभी 10 जनपदों में रात 08 बजे से प्रातः 07 बजे तक कोरोना कर्फ्यू – टीम-11 को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मुख्यमंत्री ने दिए निर्देश
लखनऊ : प्रदेश में रेमडेसिवर व ऑक्सीजन की अनुपलब्धता व ब्लैक में बेचने की आ रही खबरों के बीच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सख्त रूख अख्तियार किया है। 
कोरोना संक्रमण पर प्रभावी नियंत्रण के लिए गठित टीम-11 के साथ गुरुवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि रेमडेसिवर व ऑक्सीजन की उपलब्धता की प्रतिदिन समीक्षा करें। बता दें कि बीते बुधवार को प्रदेश सरकार ने अहमदाबाद से राजकीय वायुयान भेजकर 25 हजार रेमडेसिवर इंजेक्शन मंगा लिया है। वहीं, सरकार अन्य विकल्प भी तलाश रही है। 
इस दौरान उन्होंने यूपी बोर्ड हाईस्कूल-इंटरमीडिएट की परीक्षाएं 20 मई तक स्थगित करने के निर्देश दिए। वहीं, 01 से 12 तक के विद्यालयों में 15 मई तक पठन-पाठन स्थगित करने को कहा। लखनऊ, प्रयागराज, वाराणसी, कानपुर नगर, गौतमबुद्ध नगर, गाजियाबाद, मेरठ, गोरखपुर सहित 2,000 से अधिक सक्रिय केस वाले सभी 10 जनपदों में रात 08 बजे से प्रातः 07 बजे तक कोरोना कर्फ्यू प्रभावी किया जाए। इस आदेश को तत्काल प्रभाव से लागू करें।
केजीएमयू, बलरामपुर अस्पताल कोविड डेडिकेटेड हॉस्पिटल के रूप में करें तैयार
उन्होंने कहा कि राजधानी लखनऊ में अन्य जनपदों के मरीजों का आगमन को देखते हुए अतिरिक्त व्यवस्था की जाए। केजीएमयू और बलरामपुर हॉस्पिटल को पूर्णतः कोविड डेडिकेटेड हॉस्पिटल के रूप में तैयार किया जाए। लखनऊ में टीएस मिश्र हॉस्पिटल, इंटीग्रल और हिन्द मेडिकल कॉलेज डेडिकेटेड कोविड हॉस्पिटल के रूप में तत्काल क्षमता विस्तार करें। अगले दो दिनों में यहां अतिरिक्त बेड्स उपलब्ध कराए जाएं।
20 मई के बाद होंगी यूपी बोर्ड परीक्षाएं
मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड संक्रमण के दृष्टिगत कक्षा 01 से 12वीं तक के विद्यालयों में 15 मई तक पठन-पाठन स्थगित रखा जाए। इस अवधि में कोई परीक्षा आयोजित नहीं की जाएगी। माध्यमिक शिक्षा परिषद (यूपी बोर्ड) की 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं 20 मई के बाद आयोजित की जाएं।
सभी जनपदों में क्वारंटीन सेंटर किए जाएं संचालित
मुख्यमंत्री ने कहा कि पंचायत चुनावों में संलग्न कार्मिकों की सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम किए जाएं। कोविड प्रोटोकॉल का सख्ती से अनुपालन हो। मतदान कर्मियों के लिए मास्क, ग्लव्स, सैनिटाइजेशन आदि की पर्याप्त व्यवस्था की जाए। कोविड-19 के प्रसार के दृष्टिगत विभिन्न राज्यों से प्रवासी श्रमिकों की वापसी संभावित है। सभी जनपदों में कोविड प्रोटोकॉल के अनुरूप क्वारंटीन सेंटर संचालित किए जाएं। क्वारंटीन सेंटरों में चिकित्सा सुविधाओं के साथ भोजन-शयन आदि की उचित व्यवस्था की जाए।
रेमडेसिवर व ऑक्सीजन की उपलब्धता की प्रतिदिन करें समीक्षा
मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड से बचाव के लिए उपयोगी रेमडेसिवर और ऑक्सीजन की उपलब्धता पर सतत नजर रखी जाए। मुख्य सचिव कार्यालय और मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा प्रतिदिन इसकी समीक्षा की जाए। किसी भी जनपद के किसी भी अस्पताल में इन आवश्यक चीजों का अभाव न हो।
उन्होंने कहा कि सभी जनपदों में कोविड मरीजों के लिए बेड और ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं है। हर दिन इस स्थिति की जनपदवार समीक्षा की जाए। यह सुनिश्चित करें कि प्रत्येक जनपद में कोविड बेड, दवाओं, मेडिकल उपकरणों तथा ऑक्सीजन की पर्याप्त उपलब्धता बनी रहे।
होम आइसोलेशन में कोरोना मरीजों से करें नियमित संवाद
योगी ने कहा कि टेस्टिंग कार्य पूरी क्षमता के साथ संचालित किया जाए। प्रदेश स्थित केन्द्रीय संस्थानों की प्रयोगशालाओं में उपलब्ध आरटी-पीसीआर क्षमता का उपयोग करते हुए इसके टेस्ट की संख्या बढ़ाई जाए। होम आइसोलेशन में रह रहे कोरोना मरीजों से नियमित संवाद बनाकर उनके स्वास्थ्य की स्थिति की जानकारी प्राप्त की जाए और आवश्यकतानुसार उनका मार्गदर्शन किया जाए। इस कार्य में सीएम हेल्पलाइन 1076 का भी उपयोग किया जाए।
एम्बुलेंसों की गतिविधियों को इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर से जोड़ा जाए
उन्होंने कहा कि इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर 24×7 सक्रिय रहें। एम्बुलेंसों की गतिविधियों को इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर से जोड़ा जाए। प्रत्येक जनपद में जिलाधिकारी, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक/पुलिस अधीक्षक तथा मुख्य चिकित्सा अधिकारी प्रतिदिन इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर में बैठक कर परिस्थितियों के अनुरूप रणनीति तय करें। 
मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड-19 से बचाव के बारे में लोगों को निरन्तर जागरूक किया जाए। इस कार्य में पब्लिक एड्रेस सिस्टम का व्यापक स्तर पर उपयोग करते हुए आमजन को सोशल डिस्टेंसिंग अपनाने तथा मास्क का अनिवार्य उपयोग करने की जानकारी दी जाए। इस संबंध में प्रवर्तन की प्रभावी कार्रवाई की जाए।

This post has already been read 530 times!

Sharing this

Related posts