बीपीएल छात्रों के आरक्षित सीटों पर कम नामांकन होने के सन्दर्भ में प्रतुल शाहदेव ने राज्यपाल से मुलाकात की

Ranchi : रांची विश्वविद्यालय के सीनेट के पूर्व सदस्य प्रतुल शाहदेव ने आज राज्यपाल रमेश बैस से विश्वविद्यालयों और कॉलेजों में बीपीएल छात्रों के लिए आरक्षित सीटों पर कम नामांकन होने के विषय में मुलाकात की।

और पढ़ें : नई नियमावली से झारखंडी मूल के सामान्य जातियों के छात्रों के साथ भी घोर अन्याय : प्रतुल

प्रतुल शाहदेव ने राज्यपाल को एक ज्ञापन सौंपते हुए आग्रह किया की राज्य के विभिन्न विश्वविद्यालयों के विभागों में और इन विश्वविद्यालयों के अधीन कॉलेजों में गरीबी रेखा से नीचे आने वाले छात्रों के लिए हजारों सीटें आरक्षित हैं। इन सीटों पर न नामांकन शुल्क लगता है न ट्यूशन फीस और न ही एक्जाम फीस देना पड़ता है।

लेकिन आज भी बड़ी संख्या में ये सीटें खाली जा रही हैं। उन्होंने राज्यपाल को जानकारी दी कि उन्होंने कई बार विश्वविद्यालयों के प्रशासन का इस ओर ध्यान आकृष्ट किया भी है।कुछ दिन तक बीपीएल केटेगरी में नामांकन होता है। उसके बाद फिर पूरा विश्वविद्यालय प्रशासन ढीला पड़ जाता है।

इसे भी देखें : विराट और विराज, उम्र 7 साल, कारनामा : इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड में नाम दर्ज

प्रतुल ने कहा कि झारखंड जैसे राज्य में जहां लाखों की संख्या में गरीब छात्र अध्ययन कर रहे हो वहां इस कैटेगरी के सीटों का खाली जाना अनुचित है। प्रतुल ने राज्यपाल से आग्रह किया की वह इस मामले में पहल करें ताकि राज्य के सारे विश्वविद्यालयों में गरीबी रेखा से नीचे आने वाले छात्रों के लिए आरक्षित सीटों पर शत प्रतिशत नामांकन सुनिश्चित हो सके।

This post has already been read 2117 times!

Related posts