आजादी के दिन कोविड-19 हॉस्पिटल की छत से कूदकर मरीज ने की आत्महत्या

रामगढ़ :  एक तरफ आजादी का जश्न था तो दूसरी तरफ रामगढ़ के कोविड-19 हॉस्पिटल की छत से कूदकर एक कोरोना मरीज ने आत्महत्या कर ली। मृतक बिजेंद्र प्रसाद निराला कैथा गांव का निवासी था। शनिवार की शाम बिजेंद्र ने जैसे ही आत्महत्या की पूरे हॉस्पिटल में सनसनी फ़ैल गई। आत्महत्या की खबर सीसीएल नईसराय हॉस्पिटल प्रबंधन के लोगों ने परिजनों को दी। घटना की सूचना पाते ही एसडीपीओ अनुज उरांव और थाना प्रभारी विद्याशंकर भी मौके पर पहुंचे और पूरे मामले की छानबीन की। एसडीपीओ अनुज उरांव ने मामले की पुष्टि करते हुए बताया कि बिजेंद्र प्रसाद निराला को 7 दिन पहले ही कोविड-19 हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था। उसका इलाज यहां चल रहा था। शनिवार को उसने अचानक हॉस्पिटल के तीसरे माले से छलांग लगा दी। जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। घटनास्थल पर मृतक के ससुर सीताराम प्रसाद वर्णवाल, 13 वर्षीय बेटा सज्जन कुमार निराला और 10 वर्षीय पुत्र निखिल कुमार निराला भी पहुंचा हुआ है। 
रांची के एक निजी कंपनी में काम करते थे बिजेंद्र
बिजेंद्र के ससुर सीताराम प्रसाद वर्णवाल ने कहा कि हाल ही में कोरोना का टेस्ट कराया गया था। इस दौरान विजेंद्र की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। उसकी जांच किस लिए कराई गई थी, क्योंकि वह रांची के एक निजी कंपनी में काम करता था। वह कुछ दिन पहले जब घर लौटा, तो उसकी तबीयत खराब होने लगी। इलाज कराने के दौरान ही कोरोना का टेस्ट हुआ। इसके बाद उसे नईसराय सीसीएल हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया। 
आत्महत्या के कारण का पता लगा रही पुलिस
थाना प्रभारी विद्याशंकर ने बताया कि कोविड-19 हॉस्पिटल में एक मरीज ने आत्महत्या की है। उसने ऐसा क्यों किया, इसका पता लगाया जा रहा है। हालांकि घटनास्थल पर पहुंचे मृतक के परिजनों ने इस बात के संकेत दिए हैं कि बिजेंद्र प्रसाद निराला कुछ तनाव में थे। लेकिन इसकी वजह क्या थी, उसके बारे में जानकारी ली जा रही है।

This post has already been read 1191 times!

Sharing this

Related posts