पुलिस की गोली से नक्सली की नहीं, शिकार के लिए गए युवक की मौत हुई थी…

Latehar / Ranchi : लातेहार जिले के गारू थाना क्षेत्र के कुकू-पीरी जंगल में शनिवार की सुबह मुठभेड़ हुई थी, जिसमें एक व्यक्ति मारा गया था। यह मुठभेड़ पुलिस और माओवादियों के बीच नहीं हुई थी, बल्कि यह मुठभेड़ शिकार करने निकले युवकों के एक ग्रुप और पुलिस के बीच हुई थी। इसमें पुलिस की गोली से एक ग्रामीण युवक की मौके पर ही मौत हो गई और एक अन्य घायल हो गया।

और पढ़ें : डीजल-पेट्रोल की मूल्य वृद्धि के खिलाफ कांग्रेस का प्रदर्शन

मृत युवक की पहचान ब्रह्मदेव सिंह (24) के रूप में की गई है। मृतक पीरी गांव का ही रहने वाला है। गोलीबारी में घायल हुए युवक की पहचान दीनानाथ सिंह (25) वर्ष के रूप में की गई है। उसकी बांह में गोली लगी है। लातेहार एसपी प्रशांत आनंद ने बताया कि सीआरपीएफ पुलिस और जगुआर पुलिस विशेष अभियान में निकली थी। अभियान के दौरान ही कुछ ग्रामीण देसी हथियार के साथ जंगल गए थे। ग्रामीणों ने देसी हथियार से फायरिंग की, जिससे पुलिस को लगा कि यह कोई नक्सली दस्ता है।

पुलिस द्वारा भी जवाबी कार्रवाई करते हुए गोली चलाई गई। इसमें एक ग्रामीण ब्रह्मदेव सिंह को गोली लग गई, जिससे मौके पर ही मौत हो गई, जबकि एक और ग्रामीण देवनाथ घायल है। एसपी ने बताया कि इस मामले में पुलिस 6 से 7 ग्रामीण को हथियार के साथ हिरासत में भी लिया गया है।

और देखें : पति की दीर्घआयु और कोरोना संक्रमण से मुक्ति की आस लिए महिलाओं ने किया वट सावित्री की पूजा…

एसपी ने स्पष्ट किया कि इस घटना में कोई नक्सली संगठन शामिल नहीं है और पुलिस इस तरह के मामले में तय प्रोटोकॉल के अनुसार कार्य कर रही है। ग्रामीणों ने बताया कि पीरी गांव के छह लड़कों के टोली भरठुआ बंदूक के साथ खरहा या सूअर का शिकार करने निकले थे । इसी बीच पुलिस से भिड़ंत हो गई। घटनास्थल गांव से बमुश्किल 50-70 मीटर की दूरी पर है। पुलिस द्वारा गोली चलाये जाने पर अन्य लड़के भाग कर गांव में वापस चले गये।

This post has already been read 3895 times!

Related posts