मजबूत वैश्विक रुख से बीते सप्ताह ज्यादातर तेल तिलहन में सुधार

नई दिल्ली । विदेशी बाजारों में तेजी के रुख के बीच बीते सप्ताह सरसों, सोयाबीन, सीपीओ एक्स-कांडला और पामोलीन सहित विभिन्न खाद्य तेलों में सुधार का रुख रहा। हालांकि इसके बावजूद सरसों किसान की मुश्किलें बरकरार हैं, क्योंकि वायदा कारोबार में अभी भी सरसों के अप्रैल 2020 का अनुबंध न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) से लगभग 400 रुपये नीचे बिक रहा है। मलेशिया और शिकागो एक्सचेंज में सुधार के कारण यहां पामोलीन और कच्चा पामतेल कीमतों में भी पर्याप्त सुधार दर्ज हुआ। महाराष्ट्र की मंडी में सूरजमुखी समर्थन मूल्य से नीचे बिक रहा है जिससे तिलहन किसान परेशान हैं। सूत्रों ने कहा कि रबी सरसों फसल का रकबा कम रहने के कारण उत्पादन कम रहने का अनुमान है। ऐसी फसलों के कम उत्पादन से पशुचारा और पॉल्ट्री खाद्य वस्तुओं की किल्लत हो सकती है, जिससे अंडे, दूध, चिकन महंगे हो सकते हैं।

बाजार में सरसों के भाव पर दबाव है और दाम कम होने से किसान इसे बेचने से कतरा रहे हैं। समीक्षाधीन सप्ताह में सरसों दाना (तिलहन फसल) और सरसों दादरी के भाव पिछले सप्ताहांत के मुकाबले क्रमश:100 – 100 रुपये के सुधार के साथ क्रमश: 4,320-4,325 रुपये और 8,650 रुपये प्रति क्विन्टल पर बंद हुए। सरसों पक्की घानी का भाव 20 रुपये के सुधार के साथ 1,400-1,550 रुपये प्रति टिन पर बंद हुआ, जबकि सरसों कच्ची घानी के भाव भी पिछले सप्ताहांत के बंद स्तर 1,435-1,575 रुपये प्रति टिन पर अपरिवर्तित रहा।

वनस्पति घी का भाव 15 रुपये सुधार प्रदर्शित करता 950-1,330 रुपये प्रति टिन पर बंद हुआ। मूंगफली दाना (तिलहन) के भाव पिछले सप्ताहांत के 4,170-4,190 रुपये के मुकाबले 80 रुपये का लाभ दर्शाता 4,250-4,270 रुपये क्विन्टल हो गया, वहीं मूंगफली मिल डिलिवरी गुजरात तेल का भाव पिछले सप्ताहांत के मुकाबले 100 रुपये सुधरकर 9,800 रुपये क्विन्टल पर बंद हुआ। दूसरी ओर मूंगफली साल्वेंट रिफाइंड का भाव 10 रुपये के सुधार के साथ समीक्षाधीन सप्ताहांत में 1,735-1,780 रुपये प्रति टिन पर बंद हुआ।

विदेशों में तेजी के अनुकूल प्रभाव के कारण सोयाबीन मिल डिलिवरी दिल्ली, सोयाबीन इंदौर और सोयाबीन डीगम की कीमतें पिछले सप्ताहांत के बंद भाव के मुकाबले क्रमश: 100 रुपये, 80 रुपये और 100 रुपये के सुधार के साथ क्रमश: 8,700 रुपये, 8,500 रुपये और 7,700 रुपये प्रति क्विन्टल पर बंद हुआ। स्थानीय मांग बढ़ने से सीपीओ एक्स कांडला और बिनौला मिल डिलिवरी (हरियाणा) तेल के भाव क्रमश: 170 रुपये और 100 रुपये के सुधार के साथ क्रमश: 6,820 रुपये और 7,680 रुपये प्रति क्विन्टल हो गया। मलेशिया एक्सचेंज में तेजी के कारण पामोलीन दिल्ली और पामोलीन कांडला के भाव पूर्व सप्ताहांत के बंद भाव के मुकाबले क्रमश: 180 रुपये और 200 रुपये की तेजी के साथ समीक्षाधीन सप्ताहांत में क्रमश: 8,100 रुपये और 7,400 रुपये क्विंटल पर बंद हुए। उसने कहा कि बाकी अखाद्य तेलों के भाव बेहद मामूली घट बढ़ के साथ बंद हुए।

This post has already been read 3717 times!

Related posts