ममता बनर्जी ने केन्द्र पर लगाया लोकतांत्रिक मानदंडों के खिलाफ काम करने का आरोप

कोलकाता । पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केन्द्र की भाजपा-नीत एनडीए सरकार पर लोकतांत्रिक मानदंडों के खिलाफ कार्य करने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि इस सरकार ने देश के प्रमुख शैक्षणिक संस्थानों पर अपने समर्थकों की नियुक्ति कर दी है।
तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ममता बनर्जी ने टीडीपी की विशाखापत्तनम में रविवार को होने वाली चुनावी रैली के लिए प्रस्थान करने से पहले कोलकाता एयरपोर्ट पर पत्रकारों से बातचीत कर रही थीं। उन्होंने कहा कि 27 मार्च को रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) ने एंटी-सैटेलाइट मिसाइल का सफल परीक्षण किया। इससे अमेरिका, रूस और चीन के बाद भारत दुनिया की चौथी ऐसी महाशक्ति बनकर उभरा है जो अंतरिक्ष में सैटेलाइट को मार गिराने में सक्षम है। इसके सफल परीक्षण के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने राष्ट्र को संबोधित किया था। ममता ने इस पर भी हमला बोला और कहा कि प्रधानमंत्री मोदी वैज्ञानिकों की सफलता का श्रेय लेने की कोशिश कर रहे हैं। 
उन्होंने कहा कि वह टीडीपी प्रमुख चंद्रबाबू नायडू को अपना समर्थन देंगी। नायडू ने पिछले साल मार्च में मोदी सरकार पर आंध्र प्रदेश के साथ भेदभाव का आरोप लगाते हुए अपनी पार्टी टीडीपी को एनडीए से अलग कर लिया था। 
ममता ने कहा, मैं अपनी एकजुटता बढ़ाने और सार्वजनिक रैली में भाग लेने के लिए चंद्रबाबू नायडू के बुलावे पर विशाखापत्तनम जा रही हूं। मैं चार अप्रैल को पश्चिम बंगाल में कूचबिहार और पांच अप्रैल को असम में चुनावी रैलियों को संबोधित करूंगी। 
उल्लेखनीय है कि पश्चिम बंगाल की 42 लोकसभा सीटों के लिए 11 अप्रैल से 19 मई तक सात चरणों में चुनाव होंगे। 

This post has already been read 4597 times!

Sharing this

Related posts