चुनाव प्रचार में खर्च की निगरानी की सभी आवश्यक व्यवस्था यथाशीघ्र करेंः मुरली कुमार

  • चुनाव खर्च के अनुश्रवण के लिए भारत निर्वाचन आयोग ने प्रावधानों का अक्षरशः पालन करें
  • भारत निर्वाचन आयोग के विशेष व्यय प्रेक्षक ने वीडियो कांफ्रेंसिंग कर दिए आवश्यक निर्देश

रांची। भारत निर्वाचन आयोग के विशेष व्यय प्रेक्षक मुरली कुमार ने निर्वाचन व्यय अनुवीक्षण को लेकर शुक्रवार को जिला निर्वाचन पदाधिकारियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग कर आवश्यक निर्देश दिए।इस दौरान उन्होंने निर्वाचन व्यय की मॉनिटरिंग को लेकर की जा रही तैयारियों की जानकारी जिला निर्वाचन पदाधिकारियों से ली। उन्होंने कहा कि स्वतंत्र, स्वच्छ, पारदर्शी और शांतिपूर्ण मतदान के सिलसिले में चुनाव खर्च के अनुश्रवण के लिए भारत निर्वाचन आयोग ने कई प्रावधान किए है। इन प्रावधानों का अक्षरशः पालन सुनिश्चित किया जाना है। जिला निर्वाचन पदाधिकरियों यह सुनिश्चित करेंगे कि चुनाव प्रचार के दौरान अभ्यर्थियों द्वारा किए जाने वाले व्यय की निगरानी के लिए सभी आवश्यक व्यवस्था यथाशीघ्र कर लें। 

उड़नदस्ता और स्थैतिक निगरानी दल का अहम रोल

विशेष प्रेक्षक ने बताया कि चुनाव के दौरान अवैध नकदी, शराब और अन्य वस्तुओं की निगरानी उड़नदस्ता (एफएस) और स्थैतिक निगरानी दल (एसएसटी) को करनी है। अतः इसका गठन यथाशीघ्र कर लेना है। इसके लिए जरूरी है कि चेक नाका बनाकर वहां एसएसटी को प्रतिनियुक्त कर दिया जाए। इसके साथ ही एफएस और एसएसटी द्वारा की जानेवाली कार्रवाई के बारे में भी उन्होंने बताया। उन्होंने कहा कि इन दलों द्वारा तीन शिफ्ट में लगातार कार्य किया जाना है। उन्होंने इस बात पर विशेष बल दिया कि अवैध जब्ती के विरुद्ध आईपीसी की सुसंगत धारा के तहत एफआईआर दर्ज करने की कार्रवाई की जाए।

This post has already been read 207 times!

Sharing this

Related posts