कर्नाटकः एसीबी अधिकारियों ने छापों में करोड़ों की संपत्ति मिलने का दावा किया, छानबीन जारी

बेंगलुरु। भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) अधिकारियों ने बुधवार को कर्नाटक विश्वविद्यालय के एक प्रोफेसर सहित तीन सरकारी अधिकारियों के यहां छापे मारे थे, जिसकी जांच गुरुवार को भी जारी रही। अधिकारियों ने दावा किया कि छापों में करोड़ों की चल-अचल संपत्ति का पता चला है। कर्नाटक विश्वविद्यालय के प्रोफेसर कल्लप्पा एम. होस्मनी, उत्तर कन्नड़ जिले के पीडब्ल्यूडी के सहायक कार्यकारी अभियंता उदय डी छब्बी और मंगलौर के एस महादेवप्पा जो खदान और भूविज्ञान विभाग में सहायक अभियंता थे, उनके आवासों और रिश्तेदारों के घरों और कार्यालयों में तलाशी ली गई। इन अधिकारियों और उनके करीबी लोगों से संबंधित धारवाड़, बेलगावी, दावणगेरे, चित्रदुर्ग और बेंगलुरु में लगभग 11 स्थानों पर जांच केंद्रित थी। सहायक अभियंता एस महादेवप्पा के पास बेंगलुरु में चार मंजिला आवास के साथ चित्रदुर्ग में एक घर है। अधिकारियों ने कहा कि चिक्कमगलुरु और चित्रदुर्ग जिलों में 18 एकड़ कृषि भूमि के मालिकाना हक के बारे में दस्तावेजों को भी कब्जे में लिया गया है। नकदी 3.11 लाख रुपये, 2,150 अमेरिकी डॉलर, 4,800 हांगकांग डॉलर, बैंकों में जमा राशि के रूप में 6.49 लाख रुपये और सावधि जमाओं में 12 लाख रुपये का पता चला है। इसके साथ ही 5.5 किलो चांदी के आभूषण और अन्य सामान भी मिले हैं। इसके अतिरिक्त जीवन बीमा पॉलिसियां ​​भी पाई गईं। मामले की जांच चल रही है। सहायक कार्यकारी अभियंता उदय चब्बी के जोयड़ा और डांडेली के साथ ही बेलगावी के कार्यालयों में छापे के दौरान से 11 लाख नकदी और 200 ग्राम से अधिक सोने के आभूषण बरामद किए गए। अधिकारियों को उसकी एक जमीन के बारे में भी पता चला है। प्रोफेसर होसमनी से संबंधित पैतृक संपत्ति, उनके द्वारा अधिगृहीत जमीन, श्रीनगर में घर, सोने के गहने आदि के बारे में जानकारी मिली है। उनकी पत्नी और बच्चों के नाम पर संपत्ति और विभिन्न बैंक खातों के बारे में दस्तावेजों की भी जांच की गई है।

This post has already been read 3214 times!

Sharing this

Related posts