झामुमो को संथाल में अपना गढ़ बचाने की चुनौती

रांची। झारखंड में तीन चरणों में लोकसभा की 14 में से 11 सीटों पर चुनाव हो चुका है। देश के सातवें और राज्य के चौथे चरण में संथाल परगना की तीन सीटों दुमका, राजमहल और गोड्डा में 19 मई को मतदान होना है।

संथाल परगना झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) का गढ़ माना जाता है। लोकसभा के 2014 के चुनाव में भाजपा के विजय रथ को संथाल परगना में झामुमो ने रोका था।  उस चुनाव में भाजपा ने राज्य की 14 में से 12 सीटों पर जीत दर्ज की थी लेकिन मोदी लहर के बावजूद  पिछले चुनाव में संथाल परगना की दुमका और राजमहल सीट झामुमो के खाते में गयी थी।

2014 के लोकसभा चुनाव में दुमका से राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री व झामुमो सुप्रीमो शिबू सोरेन और राजमहल से झामुमो के ही विजय हांसदा जीते थे जबकि गोड्डा से भाजपा के निशिकांत दुबे विजयी हुए थे। उस चुनाव में दुमका में शिबू सोरेन ने भाजपा के सुनील सोरेन को और राजमहल में विजय हांसदा ने भाजपा के हेमलाल मुर्मू को हराया था। गोड्डा में भाजपा के निशिकांत दुबे ने कांग्रेस के फुरकान अंसारी को हराया था।

संथाल परगना में इस बार का चुनाव पिछले चुनाव से भिन्न है। 2014 में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) में शामिल भाजपा और आजसू तथा विपक्षी गठबंधन के घटक दल अलग-अलग चुनाव लड़े थे। इस बार दोनों गठबंधन में सीधी टक्कर है।

इस चुनाव में झामुमो को संथाल परगना में अपने गढ़ को बचाने की चुनौती है। उधर भाजपा इस बार झामुमो के इस किले को ध्वस्त करने के लिए पूरी ताकत  झोंक रही है। भाजपा ने संथाल परगना में झामुमो को हराने के लिए ठोस रणनीति बनायी है। इसके तहत मुख्यमंत्री रघुवर दास और प्रदेश के तमाम बड़े नेता 17 मई तक संथाल परगना में कैंप कर पार्टी उम्मीदवारों के पक्ष में चुनाव प्रचार करेंगे।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बुधवार को गोड्डा संसदीय क्षेत्र के देवघर में निर्माणाधीन एयरपोर्ट स्थल पर चुनावी सभा को संबोधित किया। मोदी ने संथाल परगना की जनता से देश में एक मजबूत सरकार के लिए गोड्डा, दुमका राजमहल में भाजपा  के उम्मीदवारों  को जिताने की अपील की है। इससे पूर्व भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और केंद्रीय मंत्री स्मृति इरानी संथाल में भाजपा उम्मीदवारों के पक्ष में चुनावी सभा को संबोधित कर चुके हैं। पार्टी के कई और स्टार प्रचारक इस क्षेत्र में आने वाले हैं।

उधर, अपने घर को बचाने के लिए झामुमो के कार्यकारी अध्यक्ष और प्रतिपक्ष के नेता हेमंत सोरेन संथाल परगना में ताबड़तोड़ रैलियां कर रहे हैं। हेमंत सोरेन को इसमें झारखंड विकास मोर्चा (झाविमो) प्रमुख बाबूलाल मरांडी, कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार, पूर्व केंद्रीय मंत्री सुबोधकांत सहाय और कांग्रेस विधायक दल के नेता  आलमगीर आलम का भी साथ मिल रहा है। विपक्षी गठबंधन के उम्मीदवारों  के पक्ष में राज्यसभा में विपक्ष के नेता  गुलाम नबी आजाद और पूर्व केंद्रीय मंत्री तारिक अनवर भी चुनाव प्रचार कर चुके हैं।

इस बार दुमका में झामुमो के शिबू सोरेन और भाजपा के सुनील सोरेन  के बीच  आमने –सामने की लड़ाई है। 2014 के चुनाव में दुमका में शिबू सोरेन के खिलाफ झाविमो के बाबूलाल मरांडी भी चुनाव मैदान में थे। इस बार शिबू सोरेन को बाबूलाल मरांडी का साथ मिल रहा है। राजमहल में झामुमो के विजय हांसदा और भाजपा के हेमलाल मुर्मू में सीधी टक्कर है। गोड्डा लोकसभा सीट पर भाजपा के निशिकांत दूबे का झाविमो विधायक दल की नेता प्रदीप यादव से सीधा मुकाबला है। प्रदीप यादव विपक्षी गठबंधन के उम्मीदवार हैं। पिछले चुनाव में यहां से फुरकान अंसारी कांग्रेस के उम्मीदवार थे और वह दूसरे स्थान पर रहे थे। गठबंधन में इस बार गोड्डा सीट झाविमो के खाते में गयी है। पिछले चुनाव में भाजपा के खिलाफ लड़ने वाली आजसू पार्टी  इस बार भाजपा के साथ खड़ी है।

Sharing this

Related posts