भारत में कोरोना मरीजों की संख्या 100 से 1000 होने में 12 दिन लगे

नई दिल्ली। देश में कोविड-19 के मामले तेजी बढ़े जरूर हैं लेकिन इसके बढ़ने की रफ्तार दुनिया में किसी भी विकसित देशों की तुलना में तीन-चार गुणा कम है। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा पिछले दो हफ्ते में किए गए शुरुआती अध्ययन से पता चला है कि देश में कोरोना के मरीजों की संख्या 100 से 1000 होने में 12 दिन लगे हैं, जबकि विकसित देशों में मरीजों की संख्या तीन से चार गुणा तेज रफ्तार से बढ़ी है। 

स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने सोमवार को बताया कि विकसित देशों के मुकाबले भारत में मामले कम तेजी से बढ़े हैं। इसके पीछे लोगों का सहयोग और सोशल डिस्टेंसिंग लागू करने के साथ सरकारी कोशिशें रही हैं। उन्होंने कहा कि अगर लोग ऐसे ही सहयोग करते रहे तो कोविड 19 से लोग जल्दी ही छुटकारा पा सकते हैं। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन से मामले बढ़ने की रफ्तार उस तेजी से नहीं आई है जितनी अन्य देशों में दर्ज की गई है।

इसलिए लोगों को लॉकडाउन की अवधि को गंभीरता से लेना चाहिए और सरकार का सहयोग करते हुए घर में ही रहना चाहिए। सामुदायिक संक्रमण के सवाल पर उन्होंने कहा कि अभी भारत तीसरे स्टेज पर नहीं पहुंचा है। सभी मामलों की ट्रेसिंग हो रही है। कुछ एक मामले ही ऐसे हैं जिसके संपर्क की तलाश की जा रही है। 

कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय के इंस्टीट्यूट और हॉस्टल में बनेंगे आइसोलेशन वार्ड 

संयुक्त सचिव अग्रवाल ने बताया कि सभी राज्यों को कोविड-19 के मरीजों के लिए अस्पताल तैयार करने को कहा गया है। इस दिशा में सभी राज्य तेजी से कदम भी उठा रहे हैं। उन्होंने बताया कि कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय के सभी इंस्टीट्यूट और ह़ॉस्टल को आइसोलेशन वार्ड में तब्दील किया जाएगा। इसके लिए खुद मंत्रालय ने सुझाव दिया है। इस पर भी काम चल रहा है। इसके अलावा उत्‍तर-पूर्वी क्षेत्र विकास मंत्रालय ने पूर्वोत्तर क्षेत्रों में जरूरी सामान और दवाइयां पहुंचाने के लिए कार्गो सेवा चलाने का फैसला लिया है।

देश में अब तक कुल 38,442 लोगों का हुआ टेस्ट

 भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. रमण आर गंगाखेडकर ने बताया कि देश में अब तक कुल 38442 लोगों की जांच की जा चुकी है। मौजूदा समय में एक दिन में 3500 टेस्ट किए जा रहे हैं जो क्षमता से 30 प्रतिशत है। उन्होंने बताया कि देश में अब 115 लैब सरकारी लैब क्रियान्वित हैं और 47 निजी लैब ने भी काम करना शुरू कर दिया है। निजी लैब में पिछले तीन दिन में 1334 टेस्ट किए जा चुके हैं। 

This post has already been read 1023 times!

Sharing this

Related posts