Ranchi : नियमित कक्षा नहीं तो पूरा शैक्षणिक शुल्क वसूल करना अव्यावहारिक : अजय राय

रांची। झारखंड अभिभावक संघ के अध्यक्ष अजय राय ने आज देवघर अभिभावक संघ के अध्यक्ष धीरज आनंद द्वारा आयोजित वेबिनार में देवघर जिले के विभिन्न विद्यालयों के 200 से ज्यादा अभिभावकों के साथ संवाद के जरिए हिस्सा लिया। वेबिनार में वर्तमान परिस्थिति मे शैक्षणिक शुल्क घटाने की माँग सबने एक स्वर मे किया। इस अवसर पर अजय राय ने कहा कि जब विद्यालय नियमित कक्षा नहीं ले रहें हैं तो ऐसे मे पूरा शैक्षणिक शुल्क वसूल करना अव्यावहारिक है। वर्तमान समय मे कोरोना वैश्विक महामारी और लॉकडाउन के कारण आम आदमी की आर्थिक स्थिति काफी खराब हो चुकी है। झारखंड राज्य मे भी आम जन जीवन के लिए खतरे की स्थिति उत्पन्न हो गई है तथा लोगों को जीवनयापन मे भी काफी परेशानियों का सामना करना पड रहा है। कई अभिभावको को समय पर वेतन नहीं मिल पा रहा है तो कई अभिभावको का रोजगार भी आंशिक या पूर्णतः समाप्त हो चुकी है। जिसके फलस्वरूप कई अभिभावकों को निजी स्कूलो मे पढ़ रहे उनके बच्चों के शिक्षण शुल्क समय पर भूकतान करने मे भारी कठनाई हो रही है। वेबिनार मे मौजूद सभी अभिभावकों का स्पष्ट कहना था कि अगर पश्चिम बंगाल मे सभी निजी विद्यालयों के द्वारा राहत देते हुए मासिक शैक्षणिक शुल्क मे 25 प्रतिशत की कटौती की गई है तो फिर देवघर के विद्यालययों मे यह क्यूँ नहीं हो सकता है? अभिभावकों ने राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन तथा शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो से अपील किया है कि सभी छोटे बड़े निजी विद्यालयों के शैक्षणिक शुल्क मे पिछले शैक्षणिक सत्र (2019-2020) से न्यूनतम 25 प्रतिशत की कटौती का आदेश जारी करें, जिससे आम लोगों को काफी राहत मिलेगी और आम लोगों का सरकार पर विश्वास भी बढ़ेगा। फीस कटौती का सीधा फायदा प्रदेश के छोटे-छोटे बच्चों को होगा, जो अभी फीस जमा नहीं होने करने के कारण शिक्षा से वंचित हो गए है, उन्हे भी इस वर्ष पुनः शिक्षा का अवसर प्राप्त हो सकेगा। मुख्यमंत्री, शिक्षा मंत्री एवं जिला उपायुक्त को डाक के माध्यम से ज्ञापन भेजा जा रहा है। वेबिनार की अध्यक्षता झारखंड अभिभावक संघ के अध्यक्ष अजय राय जी तथा आयोजन जिलाध्यक्ष धीरज आनंद और ललन मिश्रा तथा के द्वारा किया गया।

This post has already been read 1095 times!

Sharing this

Related posts