इंडियन ऑयल के ग्राहकों ने पर्यावरण चेतना में विश्वास मजबूत किया, धन्यवाद भारत : एस.एम. वैद्य

बेगूसराय :  पर्यावरण चेतना को प्रोत्साहित करने और देश के हरित आवरण को बढ़ावा देने के शुरू किए गए इंडियन ऑयल के ट्री चियर्स ने एक बड़ी सफलता हासिल करते हुए उत्साहजनक सहभागिता प्राप्त की है। 12 से 16 नवम्बर तक के अभियान अवधि के दौरान 2.26 लाख से अधिक ग्राहकों ने अपने नए टू व्हीलर, थ्री व्हीलर एवं फोर व्हीलर वाहनों में इंडियन ऑयल के फ्यूल स्टेशनों से ईंधन भरवाया। 
इंडियन ऑयल ट्री चियर्स योजना के तहत इन संरक्षक ग्राहकों की ओर से पौधरोपण कर रहा है। योजना के बंद होने तक 1.17 लाख से अधिक पौधे लगाए जा चुके थे, शेष अधिक पौधेरोपण का काम चल रहा है। बुधवार को यह जानकारी देते हुए कॉरपोरेट संचार प्रबंधक अंकिता श्रीवास्तव ने बताया कि पेड़ वातावरण से कार्बन डाइऑक्साइड को हटाते हैं और ऑक्सीजन छोड़ते हैं। यह ग्लोबल वार्मिंग को सीमित करने में मदद करते हैं और एक स्वच्छ, स्वस्थ जलवायु प्रदान करते हैं। 
ट्री चियर्स की शानदार सफलता पर इंडियन ऑयल के अध्यक्ष श्रीकांत माधव वैद्य ने कहा है कि ‘एक जिम्मेदार कॉर्पोरेट के रूप में इंडियन ऑयल पर्यावरण की परवाह करता है। देश भर में इस तरह की महत्वपूर्ण व उल्लेखनीय संख्या में वृक्षारोपण, प्रदूषण में कटौती करेगा और हरित आवरण को बढ़ाएगा। ये 2.26 लाख पेड़, 1.36 लाख टन कार्बन डाइऑक्साइड के कार्बन को कम करेंगे। त्योहारी मौसम के दौरान इतनी बड़ी संख्या में ट्री चियर्स अभियान में हमारे ग्राहकों की भागीदारी ने हमारे साथी नागरिकों की पर्यावरण चेतना में विश्वास को मजबूत किया है। धन्यवाद, भारत।’ 
अंकिता श्रीवास्तव ने बताया कि इस योजना में भाग लेने वाले सभी ग्राहकों को पर्यावरण को हराभरा करने में उनकी रुचि जगाने के लिए स्वागत पत्र प्रदान किया गया। इसके अलावा इंडियन ऑयल ने उन्हें अपने लॉयल्टी कार्यक्रम, एक्स्ट्रा रिवार्ड्स की मानार्थ सदस्यता प्रदान करने के साथ बोनस इनाम प्वाइंट भी दिए, जिन्हें इंडियन ऑयल फ्यूल स्टेशनों पर मुफ्त ईंधन के रूप में रीडीम/भुनाया जा सकता है। 
इंडियन ऑयल पर्यावरण के प्रति एक जागरूक कॉर्पोरेट है और अपने प्रचालन लोकेशनों, इंस्टॉलेशनों के पास पर्यावरण की रक्षा करने के लिए बड़े पैमानों पर पहल कर रहा है। अपने प्रचालन रिफाइनरियों के पास बड़े इकोलॉजिकल पार्कों के अलावा, इंडियन ऑयल ने ‘लंग्स ऑफ सिटी’ नामक एक शहरी वनीकरण पहल की है और 2019-20 में 80 हजार से अधिक पेड़ लगाए, जिससे भारत के 13 शहरों में एक व्यापक हरित आवरण का निर्माण हुआ है। 

This post has already been read 429 times!

Sharing this

Related posts