दहेज की मांग को लेकर तीन तलाक देने का आरोपित न्यायिक अभिरक्षा में

उदयपुर : मुस्लिम समुदाय से ताल्लुक रखने वाले 2 परिवारों में आते साथ (आटे-साटे) विवाह करने के बाद विवाहिता को दहेज की मांग करते हुए तीन तलाक देने के मामले में उदयपुर की स्थानीय अदालत ने आरोपित को न्यायिक अभिरक्षा में भेजने के आदेश दिए हैं।

प्रार्थी महिला के अधिवक्ता हरीश पालीवाल ने बताया कि न्यायिक मजिस्ट्रेट उत्तर क्रम संख्या 1 ने मामले को गंभीर माना है। तीन तलाक का संभवतः यह उदयपुर का पहला मामला है जिसमें आरोपित को न्यायिक अभिरक्षा में भेजा गया है। प्रार्थीया धानमंडी निवासी है जिसका विवाह सेक्टर-12 सवीना निवासी जाकिर हुसैन के साथ हुआ। दोनों परिवारों में आटे-साटे के तहत दो बहनों और दो भाइयों का विवाह हुआ। विवाह के कुछ दिन के बाद से ही आरोपित 5 लाख नकद दहेज की मांग शुरू कर दी और दुबारा विवाह करने की धमकी देने लगा। उस पर यह भी आरोप है कि उसने प्रार्थी महिला का तीन बार गर्भपात करा दिया। आरोपित व उसके परिजनों ने उसकी निजी स्वतंत्रता पर भी रोक लगा दी।

प्रार्थी महिला का आरोप है कि बीती 10 नवम्बर को आरोपित ने प्रार्थी महिला को घर से निकाल दिया और जब महिला उसके परिजनों के घर थी तब वहां आकर तलाक शब्द तीन बार दोहरा दिया। आरोपित की ओर से अधिवक्ता ने जमानत याचिका पेश कर आरोपित के पक्ष में दलीलें रखीं। दोनों पक्षों की सुनवाई के बाद न्यायालय ने मामले की गंभीरता को देखते हुए आरोपित को 15 दिनों के लिए न्यायिक अभिरक्षा में भेज दिया।

This post has already been read 1553 times!

Sharing this

Related posts