छठ पूजा को लेकर जारी गाइडलाइन पर पुनर्विचार करें हेमंत सरकारः

दुमका :  खूंटाबांध छठ पूजा समिति की आपातकालीन बैठक सोमवार को आयोजित की। बैठक की अध्यक्षता उपाध्यक्ष अमरेन्द्र कुमार यादव ने की। बैठक में सचिव अशोक कुमार राउत ने बताया कि बैठक में राज्य सरकार के मुख्य सचिव द्वारा जारी कोविड-19 के दिशा निर्देश के अनुसार छठ पर्व को अपने अपने घर में ही करने का आदेश हुआ है। जबकि खुटा बांध छठ पूजा समिति द्वारा लगभग सारी तैयारियां कर ली गयी है। इस परिस्थिति को देखते हुए समिति की बैठक बुलाई गयी। असमें खूंटा बांध छठ पूजा समिति की तैयारी  अंतिम चरण में है। इसकी समीक्षा की गई। ज्ञात हो कि समिति द्वारा 9 नवंबर को डीसी, एसडीओ, एसपी, कार्यपालक पदाधिकारी नगर परिषद, जिला मत्स्य पदाधिकारी, मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी, कार्यपालक अभियंता विद्युत आपूर्ति प्रमंडल दुमका को छठ पूजा की तैयारी से संबंधित आवेदन दिया है। लेकिन अभी तक जिला प्रशासन के द्वारा किसी भी प्रकार का दिशा-निर्देश समिति को प्राप्त नहीं हुआ है। सोशल मीडिया एवं समाचार पत्र के माध्यम से राज्य सरकार के द्वारा जो गाइडलाइन प्राप्त हुआ है, जिसमें स्पष्ट किया गया है कि नदी,तालाब, डैम, लेक के किनारे छठ पूजा नहीं होगी। सभी अपने अपने घरों में ही करे छठ पूजा राज्य सरकार द्वारा इस निर्णय का पूजा समिति प्रतिकार करते हुए घोर निंदा की है। इससे छठ व्रतियों को भी काफी ठेस पहुंची है। सभी लोग घर पर छठ व्रत करे इसके लिए पर्याप्त व्यवस्था हर किसी के लिए असंभव है। समिति ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन एवं जिला प्रशासन से अपने निर्णय पर पुनर्विचार करने की मांग की है। छठ आस्था का महापर्व है। हिंदू धर्म की भावना इससे जुड़ी हुई है। इस पर्व में छठव्रती भी स्वच्छता का विशेष पालन करती हैं। मुख्यमंत्री स्वयं जनता को होने वाले कठिनाइयों से भलीभांति वाकिफ हैं। 

This post has already been read 464 times!

Sharing this

Related posts