राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने गुड गवर्नेंस का बेहतरीन उदाहरण पेश किया : हेमन्त सोरेन

RANCHI : कांके रोड रांची स्थित मुख्यमंत्री आवासीय परिसर में आज राज्य सरकार की ओर से राज्यपाल श्रीमती द्रौपदी मुर्मू के सम्मान में विदाई समारोह आयोजित की गई। सादगी से भरे भावपूर्ण वातावरण में आयोजित विदाई समारोह में राज्यपाल श्रीमती द्रौपदी मुर्मू को मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन, झारखंड विधानसभा अध्यक्ष श्री रबीन्द्र नाथ महतो, मंत्री श्री रामेश्वर उरांव, मंत्री श्री आलमगीर आलम, मंत्री श्री मिथिलेश कुमार ठाकुर, मंत्री श्री बादल पत्रलेख, मंत्री श्री सत्यानंद भोक्ता एवं मंत्री श्री बन्ना गुप्ता ने भी पुष्पगुच्छ भेंट कर भावभीनी विदाई दी। राज्यपाल श्रीमती द्रौपदी मुर्मू ने सभी का सहृदय अभिवादन किया। मौके पर मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन ने राज्यपाल श्रीमती द्रौपदी मुर्मू के कार्यकाल का स्मरण करते हुए कहा कि राज्यपाल के रूप में इनके द्वारा किए गए कार्य सदैव हमसभी के लिए अनुकरणीय रहेंगे। राज्यपाल के रूप में झारखंड प्रदेश के लिए इनका कार्यकाल सबसे लंबा 6 साल से अधिक का रहा।

और पढ़ें : बच्चे की मौत से नाराज महिलाएं बैठी धरना पर

इनके मार्गदर्शन और दिशा निर्देश से राज्य ने लंबी यात्रा तय की। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्यपाल ने बेहतर मार्गदर्शन और समन्वय से राज्य में गुड गवर्नेंस का उदाहरण पेश किया। इन्होंने कई कठिन निर्णय को सरलता से लेते हुए समस्याओं का समाधान किया। मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन ने कहा कि राज्य के हर वर्ग के लोगों के प्रति इनका विशेष लगाव और प्यार था। हर वर्ग के लोगों के साथ इनका सीधा संवाद निश्चित रूप से काफी सराहनीय रहा। इन्होंने सभी तबके के लोगों को जोड़ कर रखा। राज्य के दलित, गरीब, पिछड़ों के बेहतरी और विकास के लिए इन्होने प्रतिबद्धता के साथ प्रयास किया।

इसे भी देखें : सेक्युलर भारत के स्तंभ थे “दिलीप साहब”

मुख्यमंत्री ने राज्यपाल श्रीमती द्रौपदी मुर्मू का आभार जताते हुए इनकी सेवाओं की सराहना की। मुख्यमंत्री ने कहा कि निश्चित रूप से इनके कार्यकाल को झारखंड की जनता सदैव याद रखेगी।इस अवसर पर इस अवसर पर राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री एवं वर्तमान राज्यसभा सांसद दिशोम गुरु श्री शिबू सोरेन एवं उनकी धर्मपत्नी श्रीमती रूपी सोरेन, मुख्यमंत्री की धर्मपत्नी श्रीमती कल्पना मुर्मू सोरेन सहित अन्य परिजनों ने भी राज्यपाल एवं उनके परिजनों को पुष्पगुछ तथा स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया।

This post has already been read 1907 times!

Related posts