रांची की फर्जी महिला आईएएस अफसर हुई गिरफ्तार

Ranchi : अरगोड़ा थाना पुलिस ने खुद को आईएएस अफसर बताकर अशोक नगर में रह रही महिला को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। शुक्रवार को अरगोड़ा थाने की पुलिस ने कार्रवाई करते हुए खुद को आईएएस बता कर रह रही मोनिका नाम की महिला को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। मध्य प्रदेश के कटनी की रहने वाली मोनिका ने खुद को 2020 बैच की आईएएस अफसर बता घर किराये पर ले रखा था। उसके पिता शेषमणि स्कूल के प्रिंसिपल हैं जबकि मान ब्लॉक मैं असिस्टेंट कलेक्टर के पद पर कार्यरत है। मोनिका खुद को आईएएस साबित करने के लिए घर में बॉडीगार्ड, कार और रसोईया भी रखा हुआ था। इसी दौरान शुक्रवार को मिली गुप्त सूचना के आधार पर पुलिस ने कार्रवाई की।

इसे भी देखें : विधायक अम्बा प्रसाद ने पूर्व की बीजेपी सरकार पर साधा निशाना

मोनिका अशोक नगर के रोड नंबर एक डॉक्टर डीके राय के मकान सी/06 में किराए में रहती थी। उसकी गाड़ी पर भी असिस्टेंट कलेक्टर जमशेदपुर का बोर्ड लगा हुआ था। मोनिका ने बताया था कि वह प्रशिक्षु आईएएस अफसर हैं और फिलहाल उसकी तैनाती जमशेदपुर में असिस्टेंट कलेक्टर के रूप में है। डॉ डीके राय को मोनिका की गतिविधियां संदिग्ध लगीं। कई बार पूछताछ करने पर मोनिका उन्हें यही बताती कि फिलहाल वह छुट्टी पर हैं। इसलिए जमशेदपुर नहीं जा रही हैं। शक होने पर मामले की जानकारी अरगोड़ा थाने को दी गई। मौके पर जब पुलिस पहुंच कर उससे पूछा कि आपकी पोस्टिंग कहां है तो उसने बताया कि वह 2020 बैच की आईएएस अधिकारी हैं और वर्तमान में असिस्टेंट कलेक्टर के रूप में जमशेदपुर में पदस्थापित हैं। मोनिका के पास से झारखंड सरकार का फर्जी लोगो, डिप्टी कलेक्टर का फर्जी लेटर पैड बरामद किया गया है। उसने आईएएस अधिकारी का फर्जी आई कार्ड भी बनवा रखा था, लेकिन उसने पुलिस के डर से उसे फेंक दिया था।

और पढ़ें : पत्नी ने आशिक के साथ मिलकर पति की हत्या कर नया बने सेफ्टी टैंक के अंदर गाड़ दिया

थाना प्रभारी विनोद कुमार ने बताया कि कपट पूर्ण आशय से लोक सेवक का प्रतिरोपण करना और टोकन का धारण करना, छल के प्रयोजन से कूटरचना कर झूठा बोर्ड और पेड बनाना को लेकर भादवी की विभिन्न धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई और आरोपित को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया। मामले का अनुसंधान अभी जारी है। छापेमारी में सब इंस्पेक्टर सतीश बरनवाल देवी झा रोहित झा शामिल थे। थाना प्रभारी ने बताया कि वरीय अधिकारियों के मार्गदर्शन पर छापेमारी की गई और महिला को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया।

This post has already been read 1981 times!

Related posts