मंगल दोष के कारण विवाह में देरी, क्या हैं उपाय?

परिवार में विवाह योग्य युवक-युवती हों और किसी कारणवश विवाह नहीं हो रहा हो, तो उनके साथ-साथ परिवार भी दुखी रहता है। विवाह में देरी के कई कारण हो सकते हैं। जिस कारण को सबसे गंभीर माना जाता है, वह है मंगल दोष। कुछ लोग इसे मांगलिक दोष भी कहते हैं। जिस भी व्यक्ति की राशि में मंगल दोष होता है उनकी शादी में बेहद परेशानियां आती हैं। इस दोष को दूर करने के लिए शास्त्रों में कई भ्रांतियां भी हैं। यहां यह बात विशेष ध्यान देने वाली है कि मांगलिक स्त्री या पुरुष से विवाह होने पर हमेशा परिणाम अशुभ नहीं होते।

क्या है मंगल दोष

शास्त्रों के अनुसार मान्यता है कि यदि मंगल ग्रह जन्मकुंडली के 1, 4, 7, 8 या 12 घर में बैठा हो तो जातक (स्त्री-पुरुष) मंगल दोष से ग्रसित समझे जाते हैं।

ऐसे करें दोष दूर

अगर किसी जातक की कुंडली में मंगल दोष है तो उसकी शादी मांगलिक से ही करनी चाहिए। ऐसा संभव ना होने पर पीपल विवाह, कुंभ विवाह, सालिगराम विवाह तथा मंगल यंत्र का पूजन करवाकर जातक की शादी अच्छे ग्रह योग वाले जातक से करा देनी चाहिए। हनुमान चालीसा का पाठ और गणेश पूजन तथा मंगल यंत्र की पूजा करने से भी यह दोष दूर हो जाता है और जातक का विवाह जल्द हो जाता है।

This post has already been read 26822 times!

Sharing this

Related posts