मुंबई में पिछले साल बिजली ग्रिड फेल होने में चीन की थी भूमिका?

चीन ने किया सायबर हमला

चीन से संबंधित एक खुलासे ने सभी को चौंका दिया है. एक रिसर्च में दावा किया गया कि कुछ दिनों में पहले मुंबई में हुए पावर कट के पीछे चीन का हाथ था.रिसर्च में बताया गया है कि मुंबई में पावर कट के पीछे चीन के हैकरों की एक टीम का दिमाग था. इन हैकरों ने सिर्फ पांच दिनों में ही भारत के पावर ग्रिड से लेकर आईटी कंपनियों और बैंकिंग क्षेत्र पर 40,300 बार साइबर हमले करने की कोशिश की.

अँधेरे में डूबी थी मुंबई

2/5

अँधेरे में डूबी थी मुंबई

चीनी सैनिकों के साथ लद्दाख की गलवान घाटी में हुई इस हिंसक झड़प के करीब चार महीने बाद 1500 मील से भी अधिक दूरी पर स्थित भारत के मुंबई शहर में बिजली संकट की वजह से ट्रेनें थम गई थीं और दो करोड़ से अधिक लोगों को बिजली कटौती का सामना करना पड़ा. देश की आर्थिक राजधानी अंधेरे में डूब गई थी, जिसके कारण स्टॉक मार्केट तक बंद हो गई थी.

पावरग्रिड के खिलाफ अभियान

3/5

पावरग्रिड के खिलाफ अभियान

एक रिसर्च में खुलासा हुआ है कि भारत-चीन के सैनिकों की झड़प और मुंबई में बिजली गुल होना आपस में जुड़ी हुई हैं. यह चीन का भारतीय पावर ग्रिड के खिलाफ चलाया गया एक बड़े साइबर अभियान का हिस्सा बताया जा रहा है. कोरोना वायरस से सबसे अधिक प्रभावित महाराष्ट्र में वेंटिलेटर चलाने के लिए अस्पतालों ने इमरजेंसी जेनरेटरों का इस्तेमाल किया था, हालांकि कुछ घंटों की तमाम कोशिशों के बाद स्थिति सामान्य हो गई थी.

मुंबई का बिजली संकट

4/5

मुंबई का बिजली संकट

रिसर्च में बताया गया है कि मुंबई में बिजली गुल होने के पीछे चीन की हैकरों की बड़ी टीम का हाथ था. इन हैकरों ने महज पांच दिनों में ही भारत के पावर ग्रिड से लेकर आईटी कंपनियों और बैंकिंग क्षेत्र पर 40,300 बार साइबर हमला करने की कोशिश की. शोध में पता चला है कि गलवान घाटी में खूनी झड़प के बाद चीन की ओर से भेजे गए मालवेयर भारत में बिजली आपूर्ति करने वाले सिस्टम में घुसने लगे थे.

बिजली उपकरण संवेदनशील

5/5

बिजली उपकरण संवेदनशील

न्यूयॉर्क टाइम्स में प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार, मुंबई में बिजली गुल होने की घटना से इस बात का पता चलता है कि चीन ने भारत में बिजली की आपूर्ति करने वाले संगठनों को निशाना बनाया था. रिपोर्ट में संकेत दिया गया है कि भारत के कुछ संवेदनशील नेशनल इंफ्रास्ट्रक्चर चीन के हैकरों के निशाने पर हैं. यह सिस्टम को हैक करने के लिए आधुनिक वायरस का इस्तेमाल कर रहे हैं. भारत में बिजली वितरण में भी चीन के उपकरणों का बड़े पैमाने पर इस्तेमाल किया जाना इसकी बड़ी वजह हो सकता है.

This post has already been read 1225 times!

Sharing this

Related posts