क्रिमिनोलॉजी : समाज को अपराध से बचाने का करियर

लगातार बदलते सामाजिक परिवेश के चलते अपराधों की संख्या में भी लगातार वृद्धि हुई है। ऐसा कोई दिन नही जाता जब अपराध की खबर सुनने को न मिली हो। लगभग हर किसी न किसी अपराध की खबर देखने-सुनने को हर दिन मिलती है। अपराधों की इसी लगातार बढ़ती संख्या ने क्रिमिनालॉजी जैसी फील्ड में पेशेवरों के लिए कई अवसर उपलब्ध करवाएं है। क्रिमिनोलॉजी एक ऐसी शाखा है जिसमें अपराध, अपराधी, अपराधिक स्वभाव और अपराधियों के सुधार का अध्ययन किया जाता है। इसके साथ ही क्रिमिनोलॉजी में अपराध के प्रति समाज का रवैया, अपराध के कारण, अपराध के परिणाम, अपराध के प्रकार और अपराध की रोकथाम का भी अध्ययन किया जाता है। अगर आप भी इस फील्ड में इंट्रेस्ट रखते है तो आपके लिए इस फील्ड में बेहतरीन करियर हो सकता है।

किस तरह का है क्षेत्र

क्रिमिनोलॉजी अर्थात अपराध-शास्त्र, विज्ञान की ही एक विशिष्ट शाखा है, जिसमें अपराध और उससे बचाव के तौर-तरीकों के बारे में विस्तार से बताया जाता है। इसका कार्यक्षेत्र अपराधियों की कार्यपद्धति के आधार पर बढ़ता जाता है। कोई भी अपराधी अपराध करने के दौरान जाने-अनजाने कोई न कोई सुराग अवश्य छोड़ता है। इसमें उसकी उंगलियों के निशान, बाल, खून, थूक या अन्य कोई जैविक सामग्री, अपराध में इस्तेमाल किए गए हथियार या अन्य सामान जैसी तमाम चीजें आती हैं। ऐसे साक्ष्यों, अपराध के तरीके, प्रकृति और मकसद की गहन पड़ताल के जरिये अपराधी तक पहुंचा जा सकता है। इन गुत्थियों को सुलझाकर अपराधियों का तिलिस्म उजागर करने वाले पेशेवरों को क्रिमिनोलॉजिस्ट (अपराध विज्ञानी) के नाम से जाना जाता है। इन क्रिमिनोलॉजिस्ट ने अनेक अपराधों से जुड़ी बेहद जटिल गुत्थियां सुलझाकर अपराधियों को न्याय के कठघरे तक पहुंचाने में मदद की है। इस रोमांचक करियर से तभी जुड़ा जा सकता है, जब क्रिमिनोलॉजी का औपचारिक अध्ययन पूरा किया जाए।

भिन्न हैं क्रिमिनोलॉजी व फॉरेंसिक साइंस

अकसर लोग फॉरेंसिक साइंस और क्रिमिनोलॉजी को एक ही समझ बैठते हैं, जबकि ये दोनों अलग-अलग हैं। फॉरेंसिक साइंस क्रिमिनोलॉजी का एक हिस्सा है, जो यह बताता है कि क्रिमिनोलॉजिस्ट किस तरह से अपने साक्ष्यों का अध्ययन और प्रयोग कर सकते हैं। डीएनए जांच, फिंगर प्रिंट संबंधी कार्य फॉरेंसिक साइंस में आते हैं, जबकि क्रिमिनोलॉजी में घटना-स्थल से सबूत जुटाने, अपराध से संबंधित परिस्थितियों का अध्ययन करने, अपराध करने के कारण तथा समाज पर उसके असर की परख करने और जांच दल की मदद करने जैसे काम शामिल हैं।

कब रख सकेंगे कदम

यदि आप ग्रेजुएट हैं तो क्रिमिनोलॉजी में दो वर्षीय पीजी डिप्लोमा कर सकते हैं। उसके बाद एक वर्षीय मास्टर डिग्री अथवा पीएचडीभी कर सकते हैं। पीएचडी के दौरान विश्वविद्यालय में अपराध की जटिलताओं, अपराध के कारणों तथा उनके निवारण में प्रयुक्त कदम, अपराधियों की प्रवृत्ति आदि पर शोध या अध्ययन कर रिपोर्ट प्रस्तुत की जाती है। ग्रेजुएट लॉ के लिए भी क्रिमिनोलॉजी में विशेष कोर्स करवाए जाते हैं। इस कोर्स के लिए वे उम्मीदवार भी योग्य हो सकते हैं, जो नौकरी पेशा हैं। आईएफएस जैसी कई संस्थाएं हैं, जो 3 से 6 माह तक के सर्टिफिकेट एवं एडवांस डिप्लोमा कोर्स करवाती हैं।

सिलेबस में क्या-क्या शामिल

क्रिमिनोलॉजी के तहत पुलिस प्रशासन, मानवीय चाल-चलन आदि की विस्तृत जानकारी छात्रों को दी जाती है। अपराधियों पर अंकुश लगाने के लिए साक्ष्यों एवं सबूतों के विश्लेषण की बारीकियां बताई जाती हैं। इसमें प्रमुख रूप से क्रिमिनोलॉजी के सिद्धांत, क्रिमिनल लॉ, पुलिस-प्रशासन, समाजशास्त्र, इतिहास, अपराध का मनोविज्ञान आदि शामिल किये जाते हैं। उल्लेखनीय यह है कि इसमें लगातार हो रहे प्रयोगों को शामिल किया जाता है। अपराधियों के तेजी से बढ़ते नेटवर्क एवं साइबर अपराध को देखते हुए इसे भी पाठ्यक्रम का अंग बनाया गया है, ताकि बदलते समय के साथ क्रिमिनोलॉजी भी अपडेट रहे।

कौशल, जो बनाएंगे सफल

योग्यता के साथ-साथ कई ऐसे कौशल भी हैं, जो पेशेवरों के लिए जरूरी समझे जाते हैं। आमतौर पर खोजी मानसिकता, धैर्यवान, परिश्रमी तथा साहसिक गुण रखने वाले युवा इसमें काफी तरक्की करते हैं। क्रिमिनोलॉजिस्ट को आंख-कान खुले रखने होते हैं। सामाजिक परिवेश एवं आंकड़ों का खेल होने के कारण इसमें मनोविज्ञान की समझ नितांत आवश्यक है। इसके लिए विश्लेषण का उच्च कौशल तथा साइकेट्रिस्ट का गुण भी विशेष मायने रखता है। इसके अलावा हर वक्त चुनौतियों से जूझने का जज्बा होना चाहिए। आंकड़े एकत्र करने और उन्हें तरतीब से रखने का कौशल भी इस पेशे में काफी मदद पहुंचाता है।

रोजगार की व्यापक संभावनाएं

इसमें सरकारी और प्राइवेट, दोनों क्षेत्रों में अवसर मिल रहे हैं। सबसे अधिक काम रिसर्च प्रोजेक्ट के रूप में मिल रहा है। इसके अलावा सीबीआई, आईबी, निजी चैनल, सरकारी अपराध प्रयोगशालाओं, पुलिस प्रशासन, न्यायिक एजेंसियों, भारतीय सेना, प्राइवेट डिटेक्टिव कंपनियों, रिसर्च एनालिसिस विंग आदि में रोजगार उपलब्ध हो सकते हैं। किसी विश्वविद्यालय अथवा महाविद्यालय में अध्यापन का काम भी कर सकते हैं।

वेतन

गंभीरतापूर्वक कोर्स करने के बाद एक क्रिमिनोलॉजिस्ट को शुरुआती दौर में 30 से 35 हजार रुपये प्रतिमाह आसानी से मिल जाते हैं। तीन-चार साल के अनुभव के बाद वे 50 से 55 हजार रुपये हर महीने कमा सकते हैं। इसके अलावा एक फ्रीलांसर के रूप में काम कर सकते हैं।

कुछ प्रमुख पाठ्यक्रम

-एमए/एमएससी इन क्रिमिनोलॉजी

-फोरेंसिक पैथोलॉजी में स्नातकोत्तर

-डिप्लोमा इन क्रिमिनोलॉजी

-सर्टिफिकेट कोर्स इन क्रिमिनोलॉजी

-अपराध विज्ञान में स्नातकोत्तर एवं शोधकार्य

प्रमुख संस्थान

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ क्रिमिनोलॉजी एंड फॉरेंसिक साइंस, नई दिल्ली

लखनऊ विश्वविद्यालय, लखनऊ

बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय, वाराणसी

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी, अलीगढ़

पटना विश्वविद्यालय, बिहार

यूनिवर्सिटी ऑफ मद्रास, चेन्नई

डॉ हरि सिंह गौर विश्वविद्यालय, मध्यप्रदेश

इन पदों पर मिलता है काम

-क्राइम इंटेलिजेंस

-लॉ रिफॉर्म रिसर्चर

-फॉरेंसिक एक्सपर्ट

-कंज्यूमर एडवोकेट

-ड्रग पॉलिसी एडवाइजर

-एन्वायर्नमेंट प्रोटेक्शन एनालिस्ट

-कम्युनिटी करेक्शन कोऑर्डिनेटर

This post has already been read 921 times!

Sharing this

Related posts