कोकोनट थिएटर, “चाय-वाई एंड रंगमंच – 2020” के माध्यम से विश्व रंगमंच को जोड़ते हुए : शो मस्ट गो ऑन

इस विश्वव्यापी लॉकडाउन के दौरान कोकोनट थिएटर ने एक महत्वाकांक्षी और चुनौतीपूर्ण परियोजना – “चाय-वाई एंड रंगमंच – 2020” की प्रस्तुति की है। भारत और अन्य देशों के थियेटर एक्सपर्ट्स के साथ ऑनलाइन सेशन्स कोकोनट थिएटर के आधिकारिक फेसबुक पेज पर हर रोज़ शाम 6 बजे (इंडियन स्टैण्डर्ड टाइम) आयोजन होता है| दिग्गज अभिनेता, राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता नाटककार और निर्देशक, मेकअप विशेषज्ञ, संगीतकार, डिजाइनर, कोरियोग्राफर और तकनीशियन अपने सुनहरे अनुभवों को साझा करते हैं, साथ ही उनके व्यक्तिगत जीवन की प्रेरणा जो किसी भी इच्छुक थिएटर छात्र, शौकिया रंगमंच कलाकार, लेखक, निर्देशक, संगीतकार, कोरियोग्राफर, मेकअप कलाकार, डिजाइनर, तकनीशियन और थिएटर समूह और पूरे थिएटर बिरादरी के लिए उपयोगी हो सकते हैं। ये सेशन सभी के लिए उपलब्ध है और इसके लिए पंजीकरण की आवश्यकता नहीं है।

कोविड -19 और वर्ल्डवाइड लॉकडाउन के कारण, साल 2020 पूरी दुनिया के लिए विशेष रूप से थियेटर उद्योग के लिए काफी नुकसानदायक वर्ष रहा है, जो कि लाइव एक्ट में विश्वास रखता है। “चाय-वाई एंड रंगमंच – 2020” ने ऑनलाइन सेशन्स के माध्यम से एक उत्कृष्ट मानदंड प्रस्थापित किया है और अपने दैनिक जानकारीपूर्ण सेशन्स से थिएटर के दर्शकों का मनोरंजन भी किया है। इस कारण ऑनलाइन और ऑफलाइन दर्शकों में बहुत वृद्धि हुई है। अलग-अलग समय क्षेत्रों के बावजूद हमारे दर्शक इन सेशन्स को देखना पसंद करते हैं, उदाहरण के लिए, कैलिफ़ोर्निया, यूएसए के एक सज्जन इन लाइव सेशन्स को देखने के लिए रोजाना सुबह 5 बजे उठते हैं।

आज अपनी राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय पहुंच और लोकप्रियता के कारण कई अंतर्राष्ट्रीय रंगमंच एक्सपर्ट्स ने कोकोनट थिएटर से सीधे संपर्क कर “चाई-वाई और रंगमंच – 2020” पर अपने सेशन्स करने का अनुरोध किया। इन सेशन्स से जुड़ने वाले सभी अतिथि वक्ता विभिन्न संस्कृति और विभिन्न आयु समूहों से है और कइयों के लिए तो ये ऑनलाइन प्रक्रिया बिलकुल ही नयी और कठीन है, उसके बावजूद वे सेशन करने के लिए स्वेच्छा से तैयार हुए। इनमें से कुछ अतिथि वक्ता तो 80 साल से अधिक आयु के होने के बावजूद भी उन्होंने स्वेच्छा से सेशन किए।

पद्म श्री और संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार विजेता श्रीमती. रीता गांगुली, बलवंत ठाकुर, एम. एस. सथ्यू, बंसी कौल, मनोज जोशी, श्रीमती नीलम मानसिंह, सतीश अलेकर, दादी पुदुमजी और संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार विजेता श्रीमती डॉली अहलूवालिया, प्रो.अशोक भगत, प्रसन्ना, सुरेश शर्मा (निदेशक – राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय), अमोद भट्ट, श्रीमती. अंजना पुरी, संजय उपाध्याय, श्रीमती नीना तिवाना, गायिका और अभिनेत्री पल्लवी एमडी (20 जुलाई), प्रख्यात लेखक रंजीत कपूर (15 जुलाई) और प्रसिद्ध ऐक्टर सुमीत राघवन (17 जुलाई), श्रीमती रोहिणी हट्टंगडी, श्रीमती. नादिरा बब्बर, श्रीमती. हिमानी शिवपुरी ने अबतक अपने सेशन्स किए हैं।

निष्ठावान प्रतिभागियों में रजत कपूर, शर्मन जोशी, राजपाल यादव, मकरंद देशपांडे, महेश दत्तानी, के.के. रैना, लिलेट दुबे, अतुल सत्य कौशिक, अरविंद गौर, राकेश बेदी, सोनाली कुलकर्णी, रघुबीर यादव, पल्लवी एमडी, रंजीत कपूर और प्रसिद्ध ऐक्टर सुमीत राघवन (१७ जुलाई), लुबना सलीम, दर्शन जरीवाला, सिद्धार्थ रांधेरिया, इला अरुण, अंजन श्रीवास्तव, आलोक चटर्जी, सलीम आरिफ, सैफ हैदर हसन, आसिफ अली बेग, टिकू तलसानिया, सचिन खेडेकर, संदीप सोपारकर, विजय केंकरे, नीना कुलकर्णी, जयति भाटिया, सुचित्रा पिल्लई, विपुल मेहता, जिमित त्रिवेदी, राजू बारोट, स. बसवलिंगा, रमेश तलवार, कुलदीप सिंह, चंद्रकांत कुलकर्णी, टी. ऐस. नागभरणा, केवल धालीवाल, सहित कई अन्य वरिष्ठ रंगमंच एक्सपर्ट्स ने सेशन्स किए हैं।

ग्लोबल थिएटर एक्सपर्ट्स को कोकोनट थिएटर के प्रदर्शनों की सूची में जोड़ा गया है। इनमें से कुछ नाम हैं, यूके से आर्टिस्टिक डायरेक्टर ब्रूस गुथरी, यूके से अभिनेता और निर्देशक मार्क वेकलिंग, थियेटर निर्देशक अमर काबिल इजिप्त, नॉर्वे से कोरियोग्राफर इंग्री फिक्सडल, ऑस्ट्रेलिया के लेखक-निर्देशक डेविड वुड्स, यूएसए से इंटरनेशनल प्रोडक्शन डिज़ाइनर नील पटेल (मुग़ल-ए-आज़म द म्यूज़िकल के प्रोडक्शन डिज़ाइनर), दक्षिण अफ्रीका से लेखक,नाटककार मेगन फ़र्निस, ऑस्ट्रेलिया से अभिनेता-निर्देशक ग्लेन हेडन, कैलिफ़ोर्निया यूएसए से लेखक-निर्देशक और कलाकार जेसिका लिटवॉक, यूएसए से लेखक-निर्देशक एना कैन्डिडा कैनेइरो, यूएसए से तीन बार टोनी अवार्ड विजेता स्कॉट पास्क, दक्षिण अफ्रीका से लेखक और कलाकार मोतशाबी टिलेले और यूएसए से विश्व विख्यात लेखक-निदेशक जेफ बेरॉन ने सेशन्स किए हैं।

अंतर्राष्ट्रीय सेशन्स के बाद की भारतीय रंगमंच एक्सपर्ट्स सूचि तैयार है, जिसमें सुभाष घई (31 जुलाई), पद्म श्री और संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार विजेता वामन केंद्रे (पूर्व निदेशक – नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा) (25 जुलाई), थिएटर और बॉलीवुड ऐक्टर श्रेयश तलपड़े (28 जुलाई), प्रख्यात कलाकार सुप्रिया पाठक, अनंत महादेवन (24 जुलाई) और आदिल हुसैन (26 जुलाई) और प्रकाश बेलावड़ी (23 जुलाई) जैसे अतिथि वक्ता अपना सेशन करेंगे।

रश्मिन मजीठिया जो एक प्रसिद्ध उद्योगपति हैं और कोकोनट थियेटर के निर्माता भी “चाय-वाई और रंगमंच – 2020” के पहले सीजन का आखिरी सत्र (108 वां) करेंगे। वह एक थिएटर प्रोड्यूसर के रूप में वर्तमान परिस्थिति को ध्यान में रखते हुए अपने विचार साझा करेंगे और इस अवसर पर उन सभी राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय अतिथि वक्ताओं को धन्यवाद भी देंगे जिन्होंने इस पहल के लिए अपना कीमती समय दिया है। थिएटर की इस ऑनलाइन गतिविधि शुरू करने पीछे उनका कला प्रदर्शन के लिए अपार लगाव दर्शाता है।

भारतीय रंगमंच को बॉलीवुड, खेल, संगीत और अन्य डिजिटल मनोरंजन प्लेटफार्मों की तुलना में दर्शकों, कॉरपोरेट और अन्य संस्थाओ का न्यूनतम समर्थन रहा है, लेकिन कोकोनट थिएटर के निरंतर प्रयासों के साथ इस बढ़ते आई-पी ने इस महामारी के दौरान शानदार परिणाम दिखाए। हमें भारतीय और अंतर्राष्ट्रीय थिएटर बिरादरी से बहुत अच्छी प्रतिक्रिया मिल रही है, जो हमारी कोशीश “चाय-वाई एंड रंगमंच – 2020” की सराहना कर रही है।

This post has already been read 1853 times!

Sharing this

Related posts