Jamshedpur : ऑनलाइन कवि सम्मेलनों में शहर की बेटी अंकिता को मिले 28 सम्मान पत्र

अकिता की कोरोनाकाल पुस्तक दिल्ली से प्रकाशित, विमोचन शीघ्र

जमशेदपुर। शहर की बेटी अंकिता सिन्हा की दूसरी पुस्तक कोरोनाकाल दिल्ली से प्रकाशित हो गई है, जिसका विमोचन जल्द ही होगा। इससे पहले अंकिता की पहली पुस्तक आकांक्षा 16 जनवरी 2020 को बिस्टुपुर स्थित श्रीकृष्ण सिन्हा संस्थान में विमोचन सेवानिवृत्त बिरग्रेडियर पीके झा द्वारा किया गया था। वही दूसरी तरफ कोरोना काल के लॉकडाउन में देशभर के साहित्यकारों की ओर से ऑनलाइन कवि सम्मेलनों का आयोजन फेसबुक के मध्यम से किया गया। आने वाले महीनों में भी इस तरह के आयोजन होते रहेंगे, क्योंकि कोरोना के तेजी से बढ़ते केश के कारण सरकार मंचों पर कार्यक्रम की अनुमति नहीं देगी। ऑनलाइन कवि सम्मेलनों में शहर की बेटी कवयित्री अंकिता सिन्हा को देश के कई ख्यातिप्राप्त साहित्यिक संस्थाओं से बेहत्तर प्रस्तुति पर 28 सम्मान पत्र मिले। कवि सम्मेलनों में काव्य पाठ के अलावे अंकिता ने फेसबुक पेज ऒर पोटल पर लाइव आकर लॉकडाउन के दौरान कोरोना पर अपनी कविताओं की प्रस्तुति के साथ-साथ इस महामारी से बचाव के लिए लोगों के बीच जागरूकता अभियान भी चलाया।

साहित्यिक संस्थाओं से मिले सम्मान –

भारतीय लघु कथा विकास मंच द्वारा अंकिता सिन्हा को कोरोना योद्धा सम्मान 2020 मिला। इसी तरह साहित्य सागर हौसलों की उड़ान सम्मान, फेसबुक लाइव में 2 सम्मान, कृष्ण कलम मंच से श्रेष्ठ रचनाकार सम्मान, अखिल भारतीय अग्निशिखा मंच से ऑनलाइन काव्य सम्मेलन प्रशस्ति पत्र, अग्रसर हिन्दी साहित्य सम्मान पत्र, साहित्य मित्र मंडल से प्रशस्ति पत्र, ऑल इंडिया हिन्दी उर्दू एकता ट्रस्ट से साहित्य अलंकार सम्मान, साहित्य साधक सम्मान, साहित्य सृजन सम्मान, इंकलाब काव्य शिरोमणि सम्मान पत्र, इंकलाब श्रंगार रत्न, राष्ट्र गौरव , बिहार एवन न्यूज से कोरोना योद्धा सम्मान सहित दो दर्जन सम्मान पत्र मिला।

कोरोना पर फेसबुक लाइव जागरूकता

अंकिता सिन्हा ने फेसबुक पर लाइव आकर झारखंड हिन्दी साहित्य संस्कृति मंच, बिहाके धीरज शर्मा की कलम से, बिहार बिग न्यूज 9, बिहार एवन न्यूज, कवि पीडिया, काव्य मंच, सुर साहित्य, आपन भोजपुरी से काव्य पाठ के साथ साथ कोरोना से बचाव के लिए लोगों में जागरूकता अभियान चलाया।

समाजसेविका भी है अंकिता

अंकिता सिन्हा असेम्बली ऑफ ह्यूमन राइट्स एंड जस्टिस की कोल्हान प्रमंडल की सचिव है। इस संस्था के माध्यम से अंकिता महिला उत्पीड़न के मामलों को देखती है। साथ ही वह टाटा एकआइए में सीनियर एडवाइजर के पद पर कार्यरत है।

This post has already been read 2900 times!

Sharing this

Related posts