चीन की अमेरिका से सोयाबीन, सुअर के मांस आयात को शुल्क से छूट की पेशकश

चीन : ने अमेरिका के साथ व्यापार तनाव को कम करने की दिशा में कदम उठाते हुए शुक्रवार को कहा कि वह अमेरिका से सोयाबीन और सुअर के मांस आयात को शुल्क से राहत देगा। विश्व की ये दो बड़ी अर्थव्यवस्थाएं एक साल से ज्यादा समय से व्यापार युद्ध में हैं। दोनों तरफ से एक-दूसरे से आयात करने वाले सामानों पर कई अरब डॉलर का शुल्क लगाया हुआ है। चीन की तरफ से इस राहत की पेशकश ऐसे समय की गयी है जब दोनों देश एक आंशिक व्यापार समझौते तक पहुंचने के लिए बातचीत के दौर में हैं और इसमें अमेरिका के कृषि उत्पादों का चीन में आयात बढ़ाना एक प्रमुख वादा है। वित्त मंत्रालय ने शुक्रवार को एक बयान में कहा, ‘‘राज्य परिषद के सीमाशुल्क आयोग ने सोयाबीन, सुअर के मांस और कुछ अन्य उत्पादों को शुल्क दायरे से बाहर रखने का निर्णय किया है। यह कारोबारों के आवेदन पर निर्भर करेगा।’’

बयान में कहा गया है कि चीन की कंपनियां स्वतंत्र तौर पर अमेरिका से एक निश्चित मात्रा में सामान का आयात करती हैं। पिछले साल मार्च में दोनों देशों के बीच व्यापार युद्ध शुरू होने के बाद से चीन अब तक तीन बार अमेरिका से आयात किए जाने वाले सुअर के मांस पर शुल्क बढ़ा चुका है। सितंबर तक यह शुल्क 12 से बढ़कर 72 प्रतिशत तक पहुंच गया था। इसी तरह सोयाबीन पर यह शुल्क जुलाई 2018 में 25 प्रतिशत था जो बाद में दो बार बढ़कर 33 प्रतिशत हो गया और सितंबर में इसमें पांच प्रतिशत की अतिरिक्त बढ़ोत्तरी की गयी। चीन दुनिया का सबसे बड़ा सोयाबीन उपभोक्ता है और आपूर्ति बढ़ाने के लिए उसने ब्राजील जैसे अन्य देशों से अपनी खरीद बढ़ा दी थी।

This post has already been read 547 times!

Sharing this

Related posts