सीबीआई ने खादी ग्रामोद्योग के तीन करोड़ रुपये के घोटाले में मामला दर्ज किया

नई दिल्ली । केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) ने खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग (केवीआईसी) की रांची इकाई के कुछ अधिकारियों द्वारा अज्ञात लोगों को करीब तीन करोड़ रुपये जारी करने के मामले में जांच शुरू कर दी है। यह मामला 2016 से 2018 के बीच का है और सबसे पहले आंतरिक जांच में यह गड़बड़ी सामने आयी। इस संबंध में जांच एजेंसी ने चार व्यक्तियों तथा एक कंपनी के खिलाफ मामले दर्ज किए हैं।

सीबीआई द्वरा रांची की विशेष अदालत में दायर मामले में केवीआईसी के तत्कालीन उप निदेशक आर बी राम (अब मृत्यु हो चुकी है) और कार्यकारी सुनील कुमार ने कथित रूप से कुछ लोगों के साथ मिलकर साजिश रची और सामान्य वित्तीय नियमों (जीएफआर) सहित कंपनी की प्रक्रियाओं का उल्लंघन करते हुए संदिग्ध इकाइयों के लोगों को 2.85 करोड़ रुपये जारी किए। सीबीआई ने केवीआईसी के एक वरिष्ठ अधिकारी की शिकातय पर मामला दर्ज किया है। केवीआईसी सूक्ष्म, लघु एवं मझोले उपक्रम मंत्रालय के तहत काम करता है।

करीब 1.57 करोड़ रुपये की राशि खादी सुधार और विकास कार्यक्रम, मधु मिशन, प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम के तहत खर्च की जानी थी। यह राशि चेन्नई की दो कंपनियों को जारी कर दी गई। इसी तरह केवीआईसी ने साजसज्जा में सुधार, प्रचार और भंडार प्रबंधन के नाम पर रखी गई 42.60 लाख रुपये की राशि एक व्यक्ति को जारी कर दी। बाद में दो और व्यक्तिगत लोगों को क्रमश: 23 लाख रुपये और 62.82 लाख रुपये की राशि खादी सुधार एवं विकास के प्रचारा तथा कच्चे रेशम की खरीद के नाम पर जारी की गई।

This post has already been read 343 times!

Sharing this

Related posts