स्नान करते समय आवश्यक सावधानियां

स्नान एक ऐसी क्रिया है, जिसके करने से जहां शरीर की त्वचा स्वच्छ होती है तथा मांसपेशियों को बल प्राप्त होता है, वहीं शरीर शीतल और मन प्रसन्न हो उठता है या यह कह लें कि स्नान के उपरांत व्यक्ति स्वयं को पूरी तरह से तरोताजा महसूस करता है। स्नान हमारी त्वचा के लिए ही नहीं बल्कि शारीरिक स्वास्थ्य की दृष्टि से भी बहुत महत्वपूर्ण है। इसलिए यह आवश्यक है कि स्नान को एक आवश्यक कार्य समझते हुए उसे कुशलतापूर्वक सम्पन्न किया जाय। सन कुछ ऐसा हो जो हमारे शरीर को ही नहीं बल्कि हमारे मन को भी प्रफुल्लता प्रदान करे।

आइए स्नान करने के कुछ विशेष नियमों को जानें:-

-स्नान करते समय शरीर के समस्त अंगों, विशेषकर जिनसे पसीना निकलता हो, उन्हें भलीभांति धोना और साफ करना चाहिए।

-त्वचा की तैलीयता को समाप्त करने के लिए गर्म जल और साबुन का प्रयोग करना लाभदायक रहता है।

शीतल जल से नियमित स्नान व्यक्ति के शरीर में रक्त संचार को बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

-स्नान भोजन करने से पहले करना चाहिए, भोजन करने के तत्काल बाद सन करना स्वास्थ्य की दृष्टि से बहुत हानिकारक है।

-ताजे शीतल जल से प्रातः किया गया स्नान स्नायु मंडल को दृढ़ता प्रदान करने के साथ शरीर को पर्याप्त स्फूर्ति प्रदान करता है।

-स्नान की दृष्टि से सूर्य सन भी विशेष महत्व रखता है, सूर्य की किरणों में कुछ समय तक नंगे शरीर रहने से रक्त संचार सुचारू रूप से होता है, वहीं शरीर की लालिमा भी बढ़ती है और शरीर को विटामिन डी भी प्राप्त होता है, परंतु अधिक समय किया गया सूर्य स्नान शरीर में सूजन, सिरदर्द, बेचैनी, ज्वर आदि समस्याओं का उत्पन्न कर देता है।

-सूर्य की अल्ट्रा वायलेट किरणें शरीर को स्वस्थता प्रदान करती है। ज्ञात रहे अतिरिक्त सूर्य सन त्वचा में सिकुड़न और शुष्कता उत्पन्न करता है।

-सीमित सूर्य स्नान खून में हिमोग्लोबिन नामक पदार्थ को बढ़ाता है जो कि घाव को ठीक करने में अत्यंत सहायक सिद्ध होता है।

सौन्दर्य में सहायक स्नान

-पानी में नींबू का रस मिलाकर स्नान करने से त्वचा की रंगत में आश्चर्यजनक निखार आता है, वहीं पसीने की दुर्गंध भी नहीं आती।

-गुलाब की ताज पंखुड़ियों को जल में डालकर स्नान करने से शरीर का रोम-रोम खिल उठता है।

-स्नान के जल में खाने वाला नमक डालकर उस जल से स्नान करने से त्वचा के पोरों की सफाई भलीभांति हो जाती है।

-अगर त्वचा शुष्क हो तो स्नान के जल में थोड़ा सा विनेगर मिला लें, इसके प्रयोग से त्वचा में निखार तो आएगा ही साथ ही त्वचा भी नरम और मुलायम हो जाती है।

-शरीर की त्वचा को नरम और मुलायम बनाने के लिए स्नान से पूर्व शरीर की बादाम या जैतून के तेल से मसाज करना बहुत उपयोगी रहता है।

-दूध से स्नान करना भी शरीर को सुंदर बनाता है। दूध में प्रोटीन होता है, जो त्वचा के सौन्दर्य के लिए बहुत उपयोगी होता है।

This post has already been read 2145 times!

Sharing this

Related posts