तंगहाली में जीने को मजबूर बॉलीवुड की दिग्गज गायिका, 80 की उम्र में गुजार रही ऐसी जिंदगी

सिर्फ पेंशन के भरोसे चल रही है जिंदगी

नई दिल्ली: वक्त के साथ कुछ गाने इतने पुराने हो जाते हैं कि हमें उनके बोल तो याद रह जाते हैं लेकिन उसे गाने वाले सिंगर और लिखने वाले राइटर को हम भुला देते हैं. ऐसे ही कुछ गानों में से एक है फिल्म ‘अंकुश’ (Ankush) का गाना ‘इतनी शक्ति हमें देना दाता’ (Itani Shakti Hamein Dena Data) एक वक्त ऐसा भी था जब इस गाने को स्कूलों में प्रार्थना के तौर पर बुलवाया जाता था. इस गाने को आवाज दी थी सिंगर पुष्पा पगधरे (Pushpa Pagdhare) ने.

और पढ़ें : इस मुग़ल शासक के नाम पर Kareena Kapoor के छोटे बेटे का नाम, जानकर आपको लगेगा शॉक!

यूट्यूब पर आज भी करोड़ों व्यूज
यूट्यूब पर आप इस गाने को सर्च करेंगे तो आपको इस पर करोड़ों की तादात में व्यूज मिलेंगे. गुजरते वक्त के साथ इस गाने को इतनी बार सुना गया है कि यूट्यूब व्यूज की तादात बेहद बढ़ गई है. कभी अपने सुरों के जादू से समा बांध देने वाली ये गायिका आज पाई-पाई के लिए मोहताज हैं. हालात ये हैं कि उन्हें सरकारी पेंशन के लिए भी लड़ाई लड़नी पड़ रही है.

समय पर नहीं मिल पाते हैं पैसे
बता दें कि पुष्पा (Pushpa Pagdhare) को मानदेय के तौर पर राज्य सरकार से 3150 रुपये मिलते हैं और वह भी समय पर नहीं आ पाते. पिछले 35 सालों में किसी भी म्यूजिक कंपनी ने पुष्पा (Pushpa Pagdhare) को रॉयल्टी के तौर पर एक रुपया भी नहीं दिया है. पुष्पा (Pushpa Pagdhare) इस वक्त मच्छीमार कॉलोनी में रहती हैं और उनकी माली हालत काफी ज्यादा खराब है. आर्थिक तंगी के चलते वह अपने घर के सामान्य खर्चे भी नहीं उठा पा रही हैं.

इसे भी देखें : सेक्युलर भारत के स्तंभ थे “दिलीप साहब”

कोई नहीं देता हालत पर ध्यान
पुष्पा (Pushpa Pagdhare) को रियलिटी टीवी शोज देखना पसंद है. वह कहती हैं कि आज के कलाकार अच्छी खासी कमाई कर लेते हैं लेकिन उस जमाने में हमारे लिए प्रोड्यूसर जितना तय कर देता था उतना ही पैसा हमें मिला करता था. उन्होंने बताया कि इस गाने को गाने के लिए तब सिर्फ 250 रुपये मिले थे. उन्होंने कहा कि उनका गाया गाना आज कई मंत्रियों की रिंगटोन है लेकिन कोई उनकी हालत की तरफ ध्यान नहीं देता है.

This post has already been read 4492 times!

Related posts